श्री श्री रविशंकर से मिले शिया वक्फ बोर्ड चीफ, कहा- राम जन्मभूमि पर ही बनना चाहिए राम मंदिर

नई दिल्ली(31 अक्टूबर): अयोध्या विवाद को अदालत से बाहर सुलझाने की कड़ी में शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने मंगलवार को आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर से मुलाकात की है। इस मसले पर दोनों के बीच करीब एक घंटे तक बातचीत हुई।

- बेंगलुरु में श्री श्री रविशंकर से इस चर्चित भेंट के बाद वसीम रिजवी ने कहा, 'राम मंदिर फैजाबाद जिले के अयोध्या शहर में राम जन्मभूमि पर ही बनना चाहिए। हम इस मुद्दे में पार्टी हैं। हम इतने दिन खामोश रहे, इसका मतलब नहीं है कि हमारा अधिकार नहीं है। कुछ मुल्लाओं को छोड़कर आवाम इस बात से सहमत है। हम कत्लेआम नहीं चाहते हैं। उन मुल्लाओं की हमें फिक्र नहीं है, जो फसाद की बात करते हैं। ऐसे लोगों की कानूनन कुछ भी हैसियत नहीं है। पूरे देश का मुसलमान हिंसा नहीं चाहता है। इस मुद्दे को उलझाया गया है।'

- रिजवी ने कहा, 'श्री श्री के आने से हमें पूरी उम्मीद है कि मामला हल हो जाएगा। इस पर बात चल रही है कि समझौते के क्या-क्या बिंदु होने चाहिए, ताकि दोनों समाज को अपनी हार महसूस न हो। यह मामला सुलझने जा रहा है। आपसी बातचीत से साल 2018 में अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा। हम चाहते हैं कि राम मंदिर निर्माण विवादित स्थल पर ही हो।'