10 साल की सजा के बाद राम रहीम के पास बचे हैं ये विकल्प

नई दिल्ली (28 अगस्त): डेरा सच्चा प्रमुख गुरमीत राम रहीम पंचकुला की सीबीआई कोर्ट ने दो साध्वियों के साथ रेप के आरोप दोषी करार देते हुए 10 साल की कैद की सजा सुनाई है। फिलहाल राम रहीम रोहतक जेल में बंद में हैं। राम रहीम साल 2002 में डेरा आश्रम में रहने वाली एक साध्वी ने चिट्ठी के जरिए यौन शोषण का आरोप लगाया था। ऐसे में अब ये सवाल ये है कि उनके पास जेल से बाहर निकलने के लिए क्या विकल्प बचे हैं ?

- राम रहीम कल यानी मंगलवार को निचली अदालत के फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती दे सकते हैं। निचली कोर्ट के फैसले के बाद अब राम रहीम के पास हाईकोर्ट में अपील करने का विकल्प है।

- राम रहीम की ओर से निचली अदालत के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील दायर की जाती है और अगर हाईकोर्ट उसे स्वीकार लेता है कि कोर्ट उसी दिन इस मामले पर सुनवाई कर सकता है, लेकिन आमतौर पर हाई कोर्ट दो दिन बाद ही सुनवाई करता है। ये कोर्ट के रुख पर निर्भर करता है।

- हाई कोर्ट डेरा प्रमुख के मामले पर सुनावई करते हुए सजा पर स्टे भी दे सकता है और नहीं भी। हालांकि डेरा प्रमुख को हाईकोर्ट से राहत मिलने की उम्मीदें काफी कम है। 

- राम रहीम की सजा पर अगर हाईकोर्ट स्टे दे देता है तो डेरा प्रमुख देश छोड़कर भाग भी सकता है। साथ ही ये भी डर है कि अगर एक बार राम रहीम बाहर आ गया तो दूसरी बार उसे कोर्ट या जेल में लाना खासा मुश्किल होगा।