राम मंदिर निर्माण को लेकर स्‍वामी ने फिर दिया विवादित बयान

नई दिल्ली (21 फरवरी): अपने बेबाक बयानों के कारण हमेशा से सुर्खियों में रहने वाले बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता और सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का कार्य इस साल दिवाली के बाद से शुरू हो जाएगा।

स्वामी ने राष्ट्रीय स्वयमसेवक संघ (आरएसएस) के प्रचार विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम राम जन्मभूमि उभरता परिदृश्य में कहा कि इलाहाबाद हाई कोर्ट में पेश किए गए सभी साक्ष्य इस ओर इशारा करते हैं कि बाबरी मस्जिद विध्वंस स्थल पर कभी भगवान राम का मंदिर था। इसलिए उसी स्थान पर राम मंदिर का निर्माण होना जरूरी है। उन्होंने यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की रोज सुनवाई करने के लिए अर्जी डाल दी गई है और फैसले का इंतजार है।

स्‍वामी ने कहा कि मुस्लिम समुदाय के लोगों को जमीन के उस टुकड़े पर दावा बंद कर देना चाहिए। मैं कभी हिंसा के दम पर इसे हासिल नहीं करना चाहता। स्वामी ने कृष्णा पैकेज का जिक्र करते हुए कहा कि मैं मुगलों द्वारा तोड़े गए 40 हजार मंदिरो के बजाए सिर्फ 3 मंदिर मांग रहा हूं और उन तीन मंदिरों में शामिल हैं- अयोध्या का राम मंदिर, मथुरा का कृष्ण मंदिर और काशी विश्वनाथ का विश्वनाथ मंदिर।

अप्रत्यक्ष रूप से चेतावनी देते हुए स्वामी ने कहा कि अगर शांति से इस फैसले को स्वीकार नहीं किया गया तो इसे अन्य साधनों के जरिए भी हासिल करके रहूंगा। उन्होंने हिंदू एकता पर बल देते हुए कहा कि यह एकता 2019 के चुनाव में दो तिहाई बहुमत लाने में साथ देगी। महाभारत और रामायण की उदाहरणों के जरिए स्वामी ने साफ किया कि राम मंदिर सिर्फ पूजा के लिए जरूरी नहीं है बल्कि यह नाक की लड़ाई भी है।