सभी राजपूतों के साथ अब इस नए आंदोलन की तैयारी में करणी सेना

नई दिल्ली (23 फरवरी): संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत का विरोध करने के बाद सुर्खियों में आई करणी सेना एक नए आंदोलन की तैयारी में है। बताया जा रहा है कि वह अब राजपूत संगठन आरक्षण और राम मंदिर निर्माण को लेकर आंदोलन की तैयारी में जुट गई हैं।

इसके लिए राजपूत संगठनों को एकजुट करने के इरादे से एक बड़ा संगठन तैयार करने का फैसला लिया है। यह फैसला गुरुवार को दिल्ली में राजपूत संगठनों की ओर से आयोजित क्षत्रिय गोलमेज कॉन्फ्रेंस में लिया गया। इस कॉन्फ्रेंस में करणी सेना के संरक्षक लोकेंद्र सिंह कालवी समेत कई राजपूत संगठनों के पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया।

इस कॉन्फ्रेंस के संयोजक कैप्टन कुंवर विक्रम सिंह ने कहा कि सर्वसम्मति से फैसला लिया गया है कि आर्थिक रूप से कमजोर क्षत्रिय समाज के लोगों को आरक्षण दिलाने के लिए आंदोलन किया जाएगा। इस आंदोलन के जरिए सरकार पर दबाव बनाया जाएगा कि वह इस मामले में प्रस्ताव लाए। इसके अलावा कॉन्फ्रेंस में अयोध्या में राम मंदिर बनाने के विकल्प पर भी चर्चा की गई। सिंह ने कहा कि राम मंदिर का निर्माण करना क्षत्रिय समाज अपना दायित्व समझता है, क्योंकि भगवान राम भी क्षत्रिय थे। 1717 में राम मंदिर निर्माण के लिए जयपुर के महाराज सवाई जय सिंह ने भूमि भी दान दी थी।