इशरत को लेकर राजनाथ ने साधा यूपीए पर निशाना

नई दिल्ली (10 मार्च): केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में उठे इशरत जहां एनकाउंटर मामले में यूपीए सरकार पर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि यूपीए सरकार ने इस मामले में दो एफिडेविट दिए थे। एक में उसे आतंकी बताया और दूसरे में सच्चाई छुपाई। डेविड हेडली ने उसे आतंकी बताते हुए सच्चाई उजागर कर दी।

लोकसभा में इस मामले पर हंगामा होने पर कांग्रेस ने एक बार तो वॉकआउट भी किया। गृहमंत्री बोले कि मैं इतना ही कहना चाहता हूं कि आतंकवाद से केवल भारत ही नहीं, पूरी दुनिया प्रभावित है। इसलिए इसपर राजनीति नहीं होनी चाहिए। सिंह ने कहा कि पहले एक एडिशनल एफिडेविट फाइल की जाती है, बाद में उसे नया डाइमेंशन दे दिया जाता है। लगता है कि तत्कालीन गुजरात सरकार को परेशान करने के लिए और उस वक्त के सीएम (नरेंद्र मोदी) को फंसाने के लिए यह सब किया गया।

राजनाथ सिंह ने कहा कि हेडली का बयान इशरत के आतंकवादी होने का एक और सबूत है। इस मामले को कम्युनल रंग देने की कोशिश की गई। हो सेक्रेटरी की अटॉर्नी जनरल के लिए लिखी गई दो चिट्ठियां आज उपलब्ध नहीं है। यहां तक कि अटॉर्नी जनरल के पास उस समय आए ड्राफ्ट की कॉपी भी उपलब्ध नहीं है। ऐसे बहुत सारे सवालों की छानबीन करना जरूरी है।