कश्मीर: राजनाथ ने दी सुरक्षाबलों को संयम बरतने की सलाह

नई दिल्ली (10 अगस्त): राज्यसभा में कश्मीर पर बोलते हुए गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सुरक्षाबलों से संयम बरतने की अपील की है। इसी के साथ उन्होंने कहा कि सेना को पूरा प्रदेश नहीं सौंपा जा सकता। हालांकि राष्ट्रीय सुरक्षा से कोई भी समझौता नहीं किया जा सकता।

राजनाथ ने कहा कि नॉन लीथल हथियारों के दूसरे विकल्प पर मैंने समिति बना दी है और सरकार ने सुरक्षा बलों को निर्देश दिया कि पेलेट गन के इस्तेमाल से बचने की कोशिश करें।

कश्मीर को लेकर गृहमंत्री ने अपने बयान में कहीं ये बातें... - देश के दूसरे भागों में पढ़ने वाले कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा को लेकर सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखूंगा।

- भारत की धरती पर पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा नहीं चलेगा। - मेरा कश्मीर के नौजवानों से आग्रह है कि वे इस्लाम की किताबों को पढ़ें और इस्लाम के नाम पर गुमराह करने वालों से बचें। - पाकिस्तान से कश्मीर पर बात नहीं होगी, बल्कि पाक अधिकृत कश्मीर पर बात होगी। - नवाज शरीफ के यूएन को लिखे पत्र पर राजनाथ सिंह ने कहा कि दुनिया की कोई ताकत हमसे जम्मू एवं कश्मीर को नहीं छीन सकती। - कश्मीर में लश्कर-ए-तैयबा के एजेंट आकर सरकारी कर्मचारियों को धमका रहे हैं। - मैं यह नहीं कह रहा हूं कि कश्मीर के लोग सामान्य जीवन व्यतीत कर रहे हैं लेकिन राज्य सरकार उन्हें जरूरी सेवाएं उपलब्ध कराने की कोशिश कर रही है। - जितना दिल हमारा, बिहार, कोलकाता और उत्तर प्रदेश के लिए धड़कता है उतना ही कश्मीर के लिए भी धड़कता है, कश्मीर के लोग इस बात को समझे। - इस हिंसा के दौरान सुरक्षा बलों के 4515 से अधिक जवान घायल हुए हैं जबकि 3356 नागरिक घायल हुए हैं। - नॉन लीथल हथियारों के दूसरे विकल्प पर मैंने समिति बना दी है और सरकार ने सुरक्षा बलों को निर्देश दिया कि पेलेट गन के इस्तेमाल से बचने की कोशिश करें।