पाक की 'बदतमीजी' का खुलासा, ऐसे किया राजनाथ सिंह का 'ब्लैकआउट'

नई दिल्ली (7 अगस्त): इस्लामाबाद में हाल ही में हुए सार्क देशों के गृह मंत्रियों के सम्मेलन में पाकिस्तान ने एक ऐसी हरकत की जिसके चलते पूरे भारत की तरफ से उसको खरी खोटी सुनाई जा रही है। पाकिस्तान ने सम्मेलन को कवर करने गए भारतीय पत्रकारों को रोक दिया था। ये सब कैसे किया आइए आपको बताते हैं। 

भारतीय पत्रकारों को पाकिस्तानी अधिकारियों के बुरे रवैये का सामना करना पड़ा। जिन्होंने उन्हें न केवल उद्घाटन समारोह में जाने से रोका बल्कि उन्हें बैठक स्थल के उस एंट्री गेट पर भी नहीं खड़े होने दिया। जहां उनके गृहमंत्री अतिथियों का स्वागत कर रहे थे। पाक अधिकारियों के इस रवैये के चलते तनाव पैदा हो गया। इस प्रोग्राम के लिए छह भारतीय पत्रकारों को वीजा दिया गया था। इन पत्रकारों को बैठक के उद्घाटन समारोह में जाने से साफ मना कर दिया गया। बैठक में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भी हिस्सा लिया था।

भारतीय पत्रकारों के साथ बुरा बर्ताव

- रिपोर्ट के मुताबिक, इसके बाद भारतीय पत्रकार उस एंट्री गेट पर खड़े हो गए जहां पाकिस्तानी गृह मंत्री चौधरी निसार अली खान सार्क देशों से आए अतिथियों की अगवानी कर रहे थे।  - जब पाकिस्तानी मीडिया ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आने पर उनकी तस्वीरें लेने के लिए पोजिशन ली तो भारतीय पत्रकारों ने भी ऐसा ही किया।  - लेकिन उसी समय पाकिस्तानी अधिकारियों ने उनसे रुखाई से, उस जगह से हट जाने को कहा।  - उन्होंने कहा कि भारतीय पत्रकारों को गेट के बाहर भी खड़े होने की अनुमति नहीं है।

भारतीय पत्रकारों के कैमरे हटवाए, भारतीय राजनयिक ने जताया विरोध

- जब पाकिस्तानी अधिकारियों ने दूरदर्शन के फोटोग्राफर आर. जयश्री पुरी और न्यूज एजेंसी ANI के अजय कुमार शर्मा से उनके कैमरे हटाने को कहा। तो एक वरिष्ठ भारतीय राजनयिक ने हस्तक्षेप करने की कोशिश की और विरोध जताया।  - राजनयिक ने गुस्से में कहा कि भारतीय फोटोग्राफर्स को सिंह के आगमन के पलों को कवर करने के लिए गेट के पास खड़े होने की अनुमति दी जाए। क्योंकि पाकिस्तानी पत्रकार, विडियो और स्टिल कैमरों वाले छायाकार मौजूद हैं और बिना रोक-टोक के तस्वीरें ले रहे हैं। - पाकिस्तानी अधिकारियों ने स्पष्ट कहा कि भारतीय पत्रकारों को तुरंत वहां से जाना होगा। 

अधिकारियों में हुई तकरार

- इसके बाद राजनयिक और एक पाकिस्तानी अधिकारी के बीच तकरार भी हुई।  - इतना ही नहीं, पाकिस्तानी अधिकारियों ने अपने जूनियरों को इस तरह खड़े होने को कहा कि भारतीय पत्रकार तस्वीरें न ले सकें। - जल्द ही भारतीय पत्रकारों और फोटोग्राफर्स को कई लोगों ने इस तरह से घेर लिया कि उनके लिए कोई भी तस्वीर लेना नामुमकिन हो गया। - घेरने वाले व्यक्ति सादे कपड़ों में पुलिसकर्मी लग रहे थे।  - घिरे होने की वजह से भारतीय पत्रकार उन पलों से पूरी तरह अनजान रह गए जब सिंह ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष के साथ हाथ मिलाया।  - हालांकि कुछ पलों की इस औपचारिकता ने ही दोनों देशों के रिश्तों में बढ़ता ठंडापन जाहिर कर दिया। - हालांकि, सार्क प्रोटोकॉल के अनुसार, मेजबान देश के उद्घाटन भाषण को मीडिया द्वारा कवर किया जाता है। जबकि बाकी की कार्रवाई बंद कमरे में होती है।