राजस्थान: ईडी ने राजस्थान एंबुलेंस घोटाले में करीब 12 करोड़ की संपत्ति की जब्त

नई दिल्ली ( 3 अप्रैल ): राजस्थान के बहुचर्चित एंबुलेंस घोटाले में फंसी जिकित्जा हेल्थकेयर लिमिटेड की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। सोमवार को ईडी ने इस मामले में आरोपियों की संपत्तियों की जब्ती की कार्रवाई को अंजाम दिया। ईडी ने जिकित्जा हेल्थकेयर लिमिटेड की मालिक स्वेता मंगल और कई दूसरे आरोपियों की 11.57 करोड़ रुपयों की सम्पत्ति जब्त की है।

आपको बता दें कि इससे पहले ईडी ने इस मामले में आरोपी कम्पनी जिकित्जा हेल्थकेयर लिमिटेड पर छापे की कार्यवाही की थी। इस मामले में ईडी ने सीबीआई की एफआईआर के बारे में भी जांच की थी जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पी. चिदम्बरम के बेटे कीर्ति चिदंबरम और सचिन पायलट के खिलाफ भी मनी लॉडरिंग के आरोप लगाए थे।

गौरतलब है कि पूर्व की कांग्रेस सरकार और कांग्रेसी नेताओं पर मेडिकल सेवा के लिए 108 एंम्बुलेंस की खरीद में धांधली का आरोप था। इस मामले में नियमों को तोड़-मरोड़कर जिकित्जा हेल्थकेयर लिमिटेड को टेंडर दिया गया था। जिकित्जा हेल्थकेयर लिमिटेड ने राजस्थान सरकार को 450 एंबुलेंस मेडिकल सेवा 108 के लिए दी थी जिनका इस्तेमाल 35 जिलों में किया जाना था। बाद में जांच में गड़बड़ी पाए जाने के बाद सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय ने मामले की जांच शुरू की थी।
 
ये मामला 2010 से लेकर 2013 तक एनआरएचएम के तहत एंबुलेंस खरीदने में हुई धांधली का है। मीडिया रिपोर्टे के मुताबिक सीबीआई सूत्रों के मुताबिक एंबुलेंस खरीदने के लिए जो टेंडर जारी किया गया, उसमें गड़बड़ी की गई थी। बिना निर्धारित प्रक्रिया का पालन किए ये टेंडर जिगित्सा हेल्थ केयर लिमिटेड को दे दिया गया। सही टेंडर ईएमआर को जाना था, लेकिन गड़बड़ी कर ये जिगित्सा को दे दिया गया।