राजस्‍थान के इस गांव में 22 साल बाद हुई कोई शादी, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

नई दिल्ली (05 मई): राजस्थान के धौलपुर जिले के एक राजघाट गांव में 22 साल बाद किसी की शादी हुई। आपको बता दें कि इस गांव में 1996 के बाद न ही किसी लड़के की शादी हुई और न ही कोई बारात निकली। दरअसल इस गांव में कोई भी अपने बेटे या बेटी रिश्ता लेकर नहीं आता था। यहां के युवा बिना शादी के ही जिंदगी गुजारने पर मजबूर थे लेकिन 22 साल के इस पुराने इतिहास को पवन सिंह नाम के एक शख्स ने बदल दिया। गांव में इतने सालों बाद बारात देखकर लोगों की खुशी का ठिकाना न रहा। जानकारी के अनुसार धौलपुर जिला मुख्यालय से महज 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित राजघाट गांव में मूलभूत सुविधाओं की कमी है। यहां ने तो पीने का पानी है और न ही बिजली व सड़क। जिस कारण इस गांव का नाम सुनते ही लोग अपनी बेटी की शादी इस गांव में करने से मना कर देते थे। बेहद पिछड़े इस गांव के सरकारी स्कूल में केवल एक हैंडपंप है। उससे भी खारा पानी आता है। सरकारी योजनाओं के अवशेष भी इस गांव में दूर-दूर तक नहीं नजर आते।   29 अप्रैल को पवन की बारात गांव से रवाना हुई। आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण दूल्हे की घोड़ी से बारात नहीं निकल पाई। इस मलाल से दूर ग्रामीण गांव में बहू को देख फूले नहीं समाए। वही इससे पहले वर्ष 1996 में इस गांव में किसी लड़के का विवाह हुआ था। 40 घरों की आबादी वाले राजघाट में 300 लोग रहते हैं। यहां की महिलाओं ने कभी अपनी जिंदगी में टीवी और फ्रीज तक नहीं देखा। गरीबी का आलम ये है कि दो जून की भरपेट रोटी के लिए किसी भी घर में पैसे नहीं होते हैं।