सेना भर्ती घोटाले में 4 और गिरफ्तार, 1.79 करोड़ जब्त

श्रीवत्सन, जयपुर (9 मई): राजस्थान ATS ने भारतीय सेना में नौकरी दिलाने के नाम पर करोडों रूपये की ठगी करने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश किया है। इस सिलसिले में ATS  ने 4 और आरोपियों को गिरफ्तार किया है। ATS के हत्थे चढ़े ये लोग पिछले 10 साल से एक अकादमी खोलकर सेना में भर्ती का युवकों को झांसा दे रहे थे। चौंकाने वाली बात यह है की आरोपियों के घर से आर्मी कैंटीन में मिलने वाली CSD की शराब की कई बोतलें भी मिली है। लिहाजा ATS को आशंका है कि इस फर्जीवाड़े में कहीं सेना का भी कोई शख्स शामिल तो नहीं ? ATS ने छापेमारी के दौरान इन लोगों के कब्जे से 1 करोड़ 79 लाख रूपये की नकदी भी बरामद की है।


दरअसल, सेना के जोधपुर के मिलिट्री इंटेलीजेंस लाइजन यूनिट की सूचना के आधार पर राजस्थान ATS ने उदयपुर में छापेमारी कर नोखा निवासी अर्जुन सिंह नाम में शख्स को पकड़ा। जिसकी सूचना के आधार पर जयपुर में इसके रेकेट में शामिल दुसरे किरदार नन्द सिंह राठौर को पकड़ा और नन्द सिंह राठौर से पूछताछ के बाद इनके तीसरा साथी महेंद्र ओला और सुनील व्यास को गिरफ्तार किया गया तो इनके पुरे रेकेट और उसके कारनामे सामने आ गया।


जांच में इस बात का खुलासा हुआ है की ये लोग सेना में गारंटी से भर्ती कराने का युवकों को झांसा देते थे और इनकी पहुंच राजस्थान के हर उस जिले में थी जहां सेना की भर्तियां होती थी। आरोपियों ने खुलासा किया कि 40 से ज्यादा अभ्यर्थियों से यह राशि ली गई है। बताया जा रहा है कि इन लोगों ने जयपुर में NCC नाम का एक कोचिंग सेंटर भी खोला रखा था जहां सेना में भर्ती का झांसा देकर ये आरोपी युवकों को फिटनेस ट्रेनिंग देकर प्रक्षिशित करते थे। प्रवेश शुल्क और तैयारियों के रूप में 80 हज़ार रूपये की फ़ीस और गारंटेड भर्ती के नाम पर हर एक अभ्यर्थी से ढाई से तीन लाख रुपये तक वसूलते थे। यदि किसी की नौकरी लग जाती तो ठीक वरना उस युवक को अगली 2-3 भर्तियों में होने की बात कहकर ऐसे कैंडिडेट्स को रोक लेते थे और इसके बाद भी भर्ती में चयन नहीं होने पर ये उन लोगों को रुपये लौटा देते थे ताकि वह पुलिस में उनके खिलाफ शिकायत दर्ज नहीं करा सके।