हम अच्छे-बुरे आतंकवाद में भेद खत्म करके इसे धर्म से अलग करना चाहते हैं- मोदी

नई दिल्ली (17 जनवरी): प्रधानमंत्री मोदी ने दिल्ली में आयोजित दूसरे 'रायसीना डायलॉग' का उद्धाटन किया। इस सम्मेलन में 65 देशों के 250 से भी ज्यादा प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं। इस सम्मेलन में साइबर सुरक्षा के साथ-साथ कई चुनौतियों और कई रणनीति के मुद्दों पर चर्चा की जाएगी।

इस वक्त पीएम मोदी दूसरे 'रायसीना डायलॉग' में मौजूद लोगों को संबोधित कर रहे हैं।

पीएम मोदी के संबोधन की बड़ी बातें...

- हम अच्छे-बुरे आतंकवाद में भेद खत्म करके इसे धर्म से अलग करना चाहते हैं

जो लोग हिंसा, घृणा और आतंकवाद को बढ़ावा देते हैं, हमने उन्हें अलग-थलग किया

- ग्लोबल वॉर्मिंग से लड़ने के लिए हमने कड़े कदम उठाए हैं और हमने प्रयास शुरू कर दिए हैं

-हमने राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप से भी  विकास के लिए सहयोग पर बात की है

- यूरोप के साथ हमने भारत के विकास के लिए समझौते किए। हमनें स्मार्ट सिटी बनाने के लिए मदद ली

- मैं पड़ोसियों से अच्छे रिश्ते चाहता हूं

- शपथ ग्रहण के मौके पर मैंने पाकिस्तान के साथ SAARC के सभी देशों को आमंत्रित किया था

- मैं लाहौर भी गया था, लेकिन शांति के रास्ते पर अकेले नहीं चला जा सकता है

- पाकिस्तान अगर भारत से बातचीत चाहता है तो उसे आतंकवाद से दूर होना होगा

- भारत और अफगानिस्ता के बीच मजबूत हुए रिश्ते हमारे प्रयासों का उदाहरण है

- पिछले ढाई साल में हमने शांति के लिए काम किया है। अफगानिस्तान में इसकी मिसाल देखी जा सकती है

- 'सबका साथ, सबका विकास' केवल भारत के लिए नहीं है बल्कि पूरे विश्व के लिए है

- केवल अपने फायदे की बात करना हमारी संस्कृति नहीं रही है

- हम भारत को आगे बढ़ाने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर संबंधों को मजबूत करना चाहते हैं

- ग्लोबलाइजेशन के साथ चुनौतियां भी हैं

-अलग अलग वजहों से दुनियाभर में बड़े बदलाव हो रहे हैं

- 2014 में लोगों ने बदलाव के लिए हमारी सरकार को मौका दिया है

- यूक्रेन ने यूएन में शिकायत की है कि रूस आतंकवाद को स्पॉन्सर कर रहा है