रेलवे में सफर करने वालों के लिए खुशखबरी, फ्लेक्सी फेयर में मिलेगी राहत!

नई दिल्ली (12 दिसंबर): अगर आप रेल में सफर करते हैं तो शायद यह खबर आपके लिए खुशखबरी लेकर आई है। खबर के अनुसार, रेल मंत्रालय ने प्रीमियम ट्रेनों में सीटों के खाली रहने के कारण फ्लेक्सी किराये के ढांचे में कुछ बदलाव करने का फैसला लिया है।

फिलहाल 9 सितंबर को शुरू हुए फ्लेक्सी सिस्टम के मुताबिक राजधानी, दूरंतों और शताब्दी ट्रेनों में आखिरी वक्त में बुकिंग कराने पर किराए में अधिकतम 50 पर्सेंट तक का इजाफा हो जाता है। हालांकि अब रेलवे की ओर से जो बदलाव किया जाना है, उससे प्रीमियम ट्रेनों में रिजर्वेशन चार्ट फाइनल होने के बाद टिकट की बुकिंग 40 फीसदी तक ही महंगी होगी।

- चार्ट तैयार होने के बाद खाली सीटें अब तक 1.5 गुना अधिक कीमत पर ऑफर की जाती थीं, अब यह 1.4 ही होगा।

- रेलवे के मुताबिक 9 सितंबर को फ्लेक्सी फेयर सिस्टम लागू होने के बाद से 31 अक्टूबर तक राजधानी, दूरंतो और शताब्दी एक्सप्रेस में 5,871 सीटें खाली रह गईं।

- यदि कोई यात्री चार्ट तैयार होने के बाद सफर करना चाहता है तो उसे बेस फेयर से अधिकतम 40 पर्सेंट तक ज्यादा चुकाना होगा, पहले यह 50 पर्सेंट था।

- फ्लेक्सी फेयर सिस्टम के मुताबिक आखिरी वक्त में बुकिंग पर सीटों की उपलब्धता के अनुसार ही किराये में इजाफा होता है।

- फ्लेक्सी फेयर स्कीम के तहत 10 फीसदी सीटें बुक होने पर किराये में 10 पर्सेंट का इजाफा होता जाता है।

 - अब तक इसकी अधिकतम सीमा 1.5 गुना थी। यह सिस्टम स्लीपर, थर्ड एसी, सेकंड एसी, एसी चेयर कार में लागू है।

- हालांकि फर्स्ट एसी और एग्जिक्यूटिव क्लास के किराये में किसी तरह का बदलाव नहीं किया गया है।

- 42 राजधानी, 46 शताब्दी और 54 दूरंतो ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर सिस्टम से रेलवे को इस साल 500 करोड़ रुपये की कमाई होने की संभावना है।