रेलवे को बड़ा झटका, AC खराब होने पर यात्री को देना पड़ेगा 12000 जुर्माना

बेंगलुरु (29 जुलाई): लेट लतीफी और असुविधाओं के लिए मशहूर रेलवे को बड़ा झटका लगा है। ट्रेन में AC खराब होने से एक यात्री को हुई परेशानी के बदले में 12,000 रुपए मुआवजा देना पड़ेगा। कर्नाटक राज्य उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग ने रेलवे को यह आदेश दिया है। दक्षिण पश्चिमी रेलवे को 10,000 का मुआवजा और 2,000 रुपए टिकट के रिफंड के तौर पर यात्री को देने का आदेश दिया गया है। कोर्ट ने रेलवे को यह राशि 4 सप्ताह के अंदर भुगतान करने का निर्देश है।

यात्री का आरोप है कि सफर के दौरान ट्रेन में AC काम नहीं करने की वजह से उन्हें सांस लेने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था। पूरा मामला 9 मार्च 2009 का है। मैसूर निवासी डॉ. शेखर एस. टीपू सुपरफास्ट एक्सप्रेस से बेंगलूरु से मैसूर जा रहे थे। 3 घंटे की यात्रा में AC में खराबी की वजह से उन्हें भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। शिकायत के बाद रेलवे ने एक मैकेनिक को उसे ठीक करने के लिए भेजा, लेकिन वह उसे ठीक नहीं कर पाया। शेखर को पूरी यात्रा बिना AC के ही करनी पड़ी थी।

रेलवे ने आयोग को बताया कि इस ट्रेन में शुरुआत में AC ठीक काम कर रहा था लेकिन, बेंगलूरु पहुंचने के बाद इसमें कुछ खराबी आ गई थी और इतने कम समय में इसे ठीक करना संभव नहीं था। उपभोक्ता फोरम ने यात्री की उम्र और उसको हुई परेशानी को देखते हुए यह फैसला सुनाया है। इससे पहले शेखर इस मामले को लेकर जिला उपभोक्ता अदालत भी गए थे।