मिशन रफ्तार: हटेंगे 4,000 डीजल रेल इंजन, बचेंगे 18,000 करोड़

नई दिल्ली (12 अगस्त): 'मिशन रफ्तार' के तहत रेलवे अपने डीजल इंजन से चलने वाली करीब 4000 ट्रेनों को हटाने जा रहा है। इनकी जगह हाई स्पीड वाली इलेक्ट्रिक ट्रेनें चलाई जाएंगी। 

- रिपोर्ट के मुताबिक, रेलवे की इस पहल से 18 हजार करोड़ रुपए की बचत होगी।  - रुरल और नॉन सबअर्बन एरिया में चलने वाली पैसेंजर्स ट्रेन की एवरेज स्पीड करीब 25kmph तक बढ़ जाएगी।  - रेलवे ने इसके लिए पांच साल का टारगेट फिक्स किया है। - रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेलवे के ''मिशन रफ्तार'' का एलान 2016 के बजट में किया था।  - मेल टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, रेलवे इसके तहत ट्रेनों की एवरेज स्पीड को डबल करना चाहता है।  - ऐसा करने से ईंधन पर होने वाला खर्च बचेगा, वहीं वायु प्रदूषण भी कम होगा।