अब TC ट्रेन में नहीं बेच पाएगा, असली हकदार को सफर के दौरान मिलेगा सीट

नई दिल्ली (21 दिसंबर): रेल यात्रियों के लिए अच्छी खबर है। सरकार एक ऐसे गैजेट पर काम कर रही है जिसके तहत आने वाले दिनों में आरएसी टिकट और वेटिंग टिकट को असली हकदार को सफर के दौरान ट्रेन में सीट मिल जाएगा। दरअसल इस गैजेट के सफल रहने पर इसे रेलवे सूचना प्रणाली केंद्र (क्रिस) द्वारा हैंड हेल्ड सिस्टम को पीआरएस से जोड़ा जाएगा। हैंड हेल्ड सिस्टम में TC को यात्री की उपस्थिति अपडेट करनी ही है, यदि नहीं करता है, तो वो पकड़ा जाएगा। ऐसे में सीट के असली हकदार यात्री के साथ भी न्याय होगा।

वर्तमान सिस्टम में यात्रा के दौरान TC सारी प्रक्रिया मैन्यूअल तरीके से करते हैं। एक बार ट्रेन चल पड़ी, फिर TC ही मालिक होता है। ऐसे में यदि आरएसी टिकट कन्फर्म हुई या वेटिंग टिकट आरएसी हुई, तो बहुत कम चांस होता है आपको अपडेट मिले। हैंड हेल्ड सिस्टम आने के बाद इस तरह की दिक्कतें नहीं होंगी। रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि मौजूदा सिस्टम में ट्रेन चलने के चार घंटे पहले पहला चार्ट बनता है, दो घंटे पहले दूसरा चार्ट। ये दोनों चार्ट बनने के बाद कोई अपडेट नहीं होता है। यदि किसी स्टेशन पर कोई यात्री किसी कारण से नहीं पहुंच पाता है, तो उसका भी अपडेट सिस्टम में नहीं होता है। ऐसे में TC उक्त सीट का कुछ भी कर सकता है।