रेलवे यात्री कृपया ध्यान दें! गर्मियों की छुट्टियों से पहले बदल गए ये नियम

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 मई): रेलवे यात्रियों की सुविधा के लिए नियमों में बड़ा बदलाव करने जा रहा है। अब यात्री यात्रा से चार घंटे पहले भी बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव कर सकते हैं। फिलहाल कम से 24 घंटे पहले तक इस बदलाव की सुविधा उपलब्ध है। इसलिए जिन यात्रियों ने पहले से टिकट बुक कराया है और वह किसी कारण उस स्टेशन से किसी अन्य शहर में हों तो उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है। रेलवे ने एक सर्कुलर जारी कर कहा है कि नया नियम एक मई से लागू होगा।

ऐसे समझें 

मान लीजिए आपको नई दिल्ली से कानपुर तक की यात्रा करनी है। आपकी ट्रेन नई दिल्ली से छूटकर गाजियाबाद और फिर अलीगढ़ रुकती है। अब अगर आप गाजियाबाद स्टेशन के पास हैं तो फिर ट्रेन के छूटने से चार घंटे पहले वहां से भी चढ़ सकेंगे। यह नियम अलीगढ़ से भी लागू होगा। इसके लिए आपको अपने निकटम आरक्षण केंद्र या फिर आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाकर के आवेदन करना होगा। यात्री 139 पर भी कॉल करके अपने बोर्डिंग स्टेशन को बदलवा सकते हैं। 

पैसा वापस नहीं होगा

हालांकि यात्रियों को दिल्ली से गाजियाबाद या फिर अलीगढ़ तक की यात्रा न करने पर पैसा वापस नहीं होगा। इस नियम का तभी पालन किया जाएगा, अगर गाजियाबाद या फिर अलीगढ़ में सीट खाली होगी। सीट खाली नहीं होने पर यात्री को यात्रा का अधिकार नहीं मिलेगा। इसके साथ ही वो सीट किसी अन्य यात्री को दे दी जाएगी। 

PNR से जुड़ा ये नियम बदला

रेल मंत्रालय की ओर से जारी सर्कुलर के मुताबिक अब यात्रियों के दो PNR एक यात्रा के दौरान साथ में लिंक हो सकेंगे। अब यात्रियों को आईआरसीटीसी 'ई टिकट' और पीआरएस काउंटर टिकट दोनों एक साथ उपलब्ध कराए जाएंगे। अब तक दो पीएनआर एक साथ लिंक न होने की वजह से ट्रेन छूटने की दशा में यात्रियों को रिफंड नहीं मिल पाता था। 

बोर्डिंग स्टेशन में परिवर्तन के नए नियम के तहत यात्री आरक्षण चार्ट बनने के ठीक पहले यानी यात्रा शुरू करने से चार घंटे पहले तक बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव करा सकेंगे। इसके लिए यात्री को 139 पर एक कॉल करना होगा। इसके अलावा स्टेशन प्रबंधक, स्टेशन सुपरवाइजर व पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्टम (पीआरएस) काउंटर पर एक आवेदन पत्र देना होगा। रेलवे ने स्पष्ट किया है कि बोर्डिंग स्टेशन तो बदला जा सकता है, लेकिन यात्री रिफंड नहीं मांग सकते। इसके लिए यात्रियों को कोई अतिरिक्त शुल्क भी नहीं देना होगा। यह नियम राजधानी, शताब्दी समेत सभी मेल, एक्सप्रेस ट्रेन में लागू होगा।

नए नियम के मुताबिक, बोर्डिंग स्टेशन बदलने की इजाजत दी गई है। यात्री को यह काम ट्रेन खुलने के चार घंटे पहले करना होगा। अगर आसान शब्दों में कहें तो एक यात्री चार्ट बनने के पहले अपना बोर्डिंग स्टेशन बदलवा सकते हैं। एक बार चार्ट बन जाने के बाद यात्री ऐसा नहीं कर पाएंगे। इस नए नियम का लाभ वे सभी यात्री उठा सकते हैं, जिन्होंने जनरल कोटा के तहत रिजर्वेशन करवाया है, इसमें तत्काल श्रेणी का रिजर्वेशन भी शामिल है। 

जिन यात्रियों के पास काउंटर टिकट है, उन्हें यात्रा की शुरूआत वाले स्टेशन पर तैनात रेलवे अधिकारियों को बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव के लिए सूचित करना होगा। वहीं, ई-टिकट वाले यात्री चार्ट बनने से पहले irctc की वेबसाइट पर लॉगिन कर अपने बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव कर सकते हैं। जो यात्री ये दोनों प्रकिया को नहीं अपना सकते हैं, वे 139 पर कॉल कर सकते हैं और फोन पर बोर्डिंग स्टेशन को बदलने के लिए अनुरोध कर सकते हैं।