सुरेश प्रमु ने रेल अधिकारियों को रात में ट्रेनों की सुरक्षा का जायजा लेने का दिया निर्देश

नई दिल्ली (29 दिसंबर): लगातार हो रहे ट्रेन हादसे के बाद रेलमंत्री सुरेश प्रमु सख्त नजर आ रहे हैं। रेलमंत्री ने रेलवे अफसरों से कहा कि वो अपने आरामदायक दफ्तरों से बाहर निकलकर अगले 7 दिनों तक रेलवे सेफ्टी से जुड़े तमाम पहलुओं की जांच-परख करें। इसके साथ उन्होंने कहा कि अगले 10 दिनों तक देश भर में रात में चल रही सभी मेल एक्सप्रेस ट्रेनों में एक सीनियर अफसर फुटप्लेट पर रहकर सेफ्टी की निगरानी का जिम्मा उठाएं। रेल मंत्रालय ने रेलवे के सेफ्टी से जुड़े स्टॉफ को क्रेश कोर्स कराने का फैसला भी किया है।

बार-बार पटरी से उतरती ट्रेनों की वजह से आजिज रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए देश भर के सभी 16 रेलवे जोन के महा प्रबंधकों के साथ साथ रेलवे बोर्ड के साथ आज एक अहम मीटिंग की। मीटिंग में रेलमंत्री प्रभु ने बार-बार हो रहे रेल हादसों पर चिंता जताई और अफसरों को साफ शब्दों में चेतावनी देते हुए कहा कि अगर आपसे काम नहीं संभाला जा रहा है तो बता दो।

बैठक के दौरान रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने जाने-माने वैज्ञानिक और परमाणु ऊर्जा आयोग के पूर्व चेयरमैन अनिल काकोडकर से रेलवे की सेफ्टी मुद्दों पर फोन पर बातचीत की। इसी के साथ प्रभु ने रेल के दूसरे जानकारों मसलन राइट्स चेयरमैन और आरवीएनएल के चेयरमैन से भी पटरी से उतरती ट्रेन के बारे में सलाह ली।