बजट में रेल यात्रियों को मिलेगी यह सौगात

नई दिल्ली (14 फरवरी): मोदी सरकार ने तीसरे रेल बजट में यात्रियों की सुविधा का ख्याल रखते हुए यात्री किरायों में वृद्धि नहीं करने का मन बनाया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, सरकार मालवहन, पार्सल, विज्ञापन और खानपान व्यवस्था की नई नीतियों के माध्यम से राजस्व बढ़ाने की योजना बना रही है।

यात्री किराया बढ़ने की संभावना नहीं

अगले वित्त वर्ष में सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के क्रियान्वयन से रेलवे पर पडऩे वाले 32 हजार करोड़ रूपए के भार के बावजूद यात्री किराया बढ़ाने जाने की संभावना नहीं है। हाल ही में रेलवे में रद्दीकरण नियमों एवं शुल्कों में बदलाव, बच्चों के लिए पूरी बर्थ का पूरा शुल्क लेने जैसे कई कदमों से राजस्व बढ़ाने के प्रबंध किए हैं।

बढ़ाई जा सकती है ट्रेनों की स्पीड रेलवे परिचालन के पूर्ण कंप्यूटरीकरण का अगले चरण में विस्तार करते हुए मालगाड़ियों को मुख्य मार्गो की बजाय वैकल्पिक मार्ग से भेजे जाने की नई प्रणाली की घोषित किए जाने की उम्मीद है। प्रमुख रेल मार्गों पर तकनीकी में बढ़ोत्तरी करके उस पर गाड़ियों की रफ्तार में दस किलोमीटर प्रति घंटा तक की वृद्धि की जा सकती है।

वर्ल्ड बैंक से इन्वेस्टमेंट का प्रस्ताव सूत्रों ने बताया कि रेलवे की महत्वाकांक्षी क्षमता विस्तार योजनाओं के लिए भारतीय जीवन बीमा निगम के डेढ़ लाख करोड़ रूपये के निवेश की तर्ज पर विश्व बैंक एवं कुछ अन्य अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं से निवेश के प्रस्ताव का उल्लेख भी बजट में किया जा सकता है।

फर्स्ट एसी की रियायतें होंगी खत्म सूत्रों के अनुसार इस बजट में वातानुकूलित प्रथम श्रेणी में तकरीबन सभी रियायतें समाप्त की जा सकती हैं। इसके अलावा विभिन्न रियायतों को तर्कसंगत बनाने, उनमें कमी लाने तथा उनके दुरूपयोग को रोकने के उपायों की घोषणा हो सकती है।

इनके लिए आ सकती है नई नीति बाजार में इस्पात लौह अयस्क, सीमेंट, कोयला, ऑटोमोबाइल्स एवं कई अन्य सेक्टरों को मालवहन से जोडऩे की नई नीति आ सकती है। इसके अलावा पार्सल बुकिंग की भी नई नीति लगभग तैयार है। रेलवे परिसरों, ट्रेनों की दीवारों पर विज्ञापनों के जरिए राजस्व कमाने, तथा बेस किचन के माध्यम से कैटरिंग की नई नीति लाए जाने की संभावना है।

प्राइवेट ठेकेदारों को मिल सकता है पैंट्री कार का काम सूत्रों के मुताबकि बेस किचन में भोजन पकाने का काम निजी ठेकेदारों को देने तथा सीसीटीवी कैमरों एवं पारंपरिक ढंग दोनों से गुणवत्ता की निगरानी करने की योजना है।

एप से टिकट बुकिंग की सुविधा रेल बजट में भोपाल के कोच रिहैबिलिटेशन सेंटर से बनकर आने वाले कोचों से नई महामना एक्सप्रेस गाड़ियां चलाने का एलान हो सकता है। मोबाइल एप्प के माध्यम से देशभर में अनारक्षित टिकट बुकिंग की सुविधा लाने, ट्रेनों में टीटीई को हैंउ हेल्ड सेट दिए जाने जैसे कदमों की घोषणा हो सकती है।

यात्रियों पर नहीं डाला जाएगा बोझ राज्य के साथ संयुक्त उपक्रम के माध्यम से रेलवे परियोजनाओं के क्रियान्वयन के नए मॉडल का भी बजट में उल्लेख किये जाने की भी पूरी उम्मीद है। प्रमुख रेलमार्गो में ट्रैक उन्नयन का काम तेजी से चल रहा है। इसके मुद्देनजर कुछ मार्गो पर गाडि़यों की गति 10 किलोमीटर प्रतिघंटा तक बढ़ाने की घोषणा की जा सकती है। सूत्रों का कहना है कि इस बार का रेल बजट सुधारों की दिशा में ही चलेगा और यात्रियों पर सीधा भार डालने से बचने का पूरा प्रयास किया जाएगा।