Blog single photo

ममता की रैली को राहुल का समर्थन, गौरव भाटिया ने विपक्ष पर लगाया परिवारवाद का आरोप

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कोलकाता में कल मोदी सरकार के खिलाफ मेगा रैली कर रही हैं। लोकसभा चुनावों से पहले इसे विपक्ष की एकजुटता के तौर पर देखा जा रहा है। रैली में 19 क्षेत्रीय दलों ने अब तक समर्थन

Photo: Google 

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 जनवरी):  पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कोलकाता में कल मोदी सरकार के खिलाफ मेगा रैली कर रही हैं। लोकसभा चुनावों से पहले इसे विपक्ष की एकजुटता के तौर पर देखा जा रहा है। रैली में 19 क्षेत्रीय दलों ने अब तक समर्थन का ऐलान कर दिया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी रैली को नैतिक समर्थन देने का ऐलान किया है।राहुल गांधी ने ममता बनर्जी को एक चिट्ठी लिखते हुए कहा, ''बंगाल की जनता हमेशा ही जनविरोधी ताकतों के खिलाफ खड़ी रही है। मोदी सरकार के खिलाफ इस वक्त पूरे देश में आक्रोश है और टीएमसी की इस कोशिश का कांग्रेस पार्टी पूरा समर्थन करती है।'' कांग्रेस की तरफ से रैली में मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल होंगे।  ममता की इस विशाल रैली में उनके लाखों समर्थकों के शामिल होने की संभावना है। बीजेपी विरोधी मुख्यमंत्रियों में अरविंद केजरीवाल, एच कुमारस्वामी, एन चंद्रबाबू नायडू के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला, आरजेडी नेता तेजस्वी यादव, डीएमके के एम के स्टालिन, बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा के अलावा अन्य नेताओं के शामिल होने की संभावना है।

ममता बनर्जी ने रैली से पहले पीएम मोदी को ललकारते हुए कहा कि यह रैली लोकसभा चुनावों से पहले बीजेपी के लिए मृत्यु-नाद की मुनादी होगी। भगवा पार्टी के कुशासन के खिलाफ संयुक्त लड़ाई का संकल्प है। बीजेपी के कुशासन के खिलाफ यह संयुक्त भारत रैली होगी। यह बीजेपी के लिये मृत्युनाद की मुनादी होगी... आम चुनाव में भगवा पार्टी 125 से अधिक सीटें नहीं जीत पाएगी। राज्य की पार्टियों द्वारा जीती गयी सीटों की संख्या भाजपा की तुलना में अधिक होगी।

वहीं बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने ट्वीट करके विपक्षी दलों पर परिवारवाद का आरोप लगाया है। भाटिया ने कहा कि 2019 का चुनाव मोदी बनाम ऑल होगा। इनमें मोदी के मुकाबले सभी दल होंगे जो परिवारवाद को बढ़ावा देते हैं। गौरव भाटिया ने ट्वीट किया, ''2019 चुनाव: मोदी Vs सोनिया परिवार... करुणानिधि परिवार... मुलायम परिवार... लालू यादव परिवार... देवगौड़ा परिवार... चन्द्रबाबू नायडू परिवार... चन्द्रशेखर राव परिवार.. शरद पवार परिवार... फारूक अब्दुल्ला परिवार... लोग कहते हैं कि परिवारवाद कोई मुद्दा नहीं है।''

Tags :

NEXT STORY
Top