राहुल गांधी बोले- जम्मू-कश्मीर में स्थिति सामान्य नहीं

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (24 अगस्त): कांग्रेस नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में विपक्षी दलों के प्रतिनिधिमंडल अनुच्छेद 370 हटने के मद्देनजर शनिवार को जम्मू-कश्मीर के दौरा पहुंचा। लेकिन प्रशानस ने डेलिगेशन को श्रीनगर एयरपोर्ट पर ही रोक दिया गया और बाद में उन्हें वापस दिल्ली भेज दिया गया। इससे पहले जब विपक्षी दलों का डेलिगेशन जैसे ही श्रीनगर एयरपोर्ट पहुंचा तो नेताओं और मीडिया को अलग कर दिया गया। मीडिया ने विपक्षी नेताओं से बातचीत करनी चाही तो पुलिस ने उनके साथ बदसलूकी की। 

राहुल गांधी ने कहा कि कुछ दिन पहले मुझे राज्यपाल ने जम्मू-कश्मीर आने का न्योता दिया था। मैंने निमंत्रण स्वीकार कर लिया लेकिन हमें एयरपोर्ट से बाहर जाने की इजाजत नहीं दी गई। हमारे साथ मीडिया को भी गुमराह किया गया। इससे साफ है कि जम्मू-कश्मीर में स्थिति सामान्य नहीं है। विपक्ष के प्रतिनिधिमंडल में राहुल गांधी के अलावा कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद, आनंद शर्मा, केसी वेणुगोपाल, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, डीएमके नेता तिरुची शिवा, शरद यादव, टीएमसी के नेता दिनेश त्रिवेदी, एनसीपी नेता माजिद मेमन और सीपीआई महासचिव डी राजा शामिल रहे। 

Rahul gandhi

हालांकि ये सभी नेत श्रीनगर एयर पोर्ट से बाहर निकल पाएंगे या नहीं इस पर संशय है। जम्मू कश्मीर प्रशासन ने किसी भी बड़े नेता को कश्मीर घाटी में जाने नहीं दे रही है। कुछ दिन पहले जब कांग्रेस सांसद और राज्यसभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आजाद जम्मू पहुंचे थे तब उन्हें भी श्रीनगर जाने नहीं दिया था। राहुल गांधी की इस यात्रा पर जम्मू-कश्मीर प्रशासन की ओर से कहा गया है कि सभी नेताओं से निवेदन है कि वह अभी श्रीनगर के दौरे से बचें। उनके कारण यहां पर लोगों को भी दिक्कतें हो सकती हैं। अभी भी कई क्षत्रों में कुछ पाबंदियां हैं।

अब तक-

-विपक्ष के नेता शरद यादव, माजिद मेमन, डी. राजा और मनोज झा भी राहुल गांधी के साथ जा रहे हैं श्रीनगर

rahul gandhi

- जम्मू-कश्मीर रवाना हुए राहुल गांधी, श्रीनगर की फ्लाइट पर हुए सवार

-   जम्मू कश्मीर जाने के लिए अपने आवास से एयरपोर्ट को रवाना हुए राहुल गांधी

rahul gandhi(Image Credit: Google)

जानकारी के मुताबिक राहुल गांधी के साथ डीएमके, आरजेडी और लेफ्ट के कई नेता साथ होंगे। जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म किए जाने के बाद से विपक्ष घाटी के हालात को लेकर सरकार को घेरने का प्रयास करता रहा है। इसी क्रम में राहुल गांधी के ट्वीट का जवाब देते हुए राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने उन्हें कश्मीर आकर हालात देखने का न्योता दिया था। जानकारी के मुताबिक राहुल गांधी के साथ डीएमके, आरजेडी और लेफ्ट पार्टी के नेता जाएंगे। इनमें गुलाम नबी आजाद, डी राजा, मनोज झा और सीताराम येचुरी शामिल होंगे।

जम्मू-कश्मीर के प्रशासन ने राहुल गांधी से दौरे को टालने की अपील की है। साफ है कि ऐसी स्थिति में प्रशासन और विपक्षी नेताओं के बीच रस्साकशी देखने को मिल सकती है। जम्मू-कश्मीर के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग ने विपक्षी नेताओं से अपील की है, 'राजनीतिक नेताओं से अपील है कि वे श्रीनगर के दौरे पर न आएं क्योंकि इससे अन्य लोगों को असुविधा होगी। इसके अलावा वे ऐसा करके कई जगहों पर लागू निषेधाज्ञा का भी उल्लंघन करेंगे।' आपको बता दें कि राहुल गांधी ने पिछले दिनों ट्वीट किया था कि कश्मीर के विभिन्न हिस्सों से हिंसा की खबरें आ रही हैं। प्रधानमंत्री को शांति और निष्पक्षता के साथ मामले को देखना चाहिए। इस पर सत्यपाल मलिक ने कहा था, 'मैं राहुल गांधी जी को कश्मीर आने का निमंत्रण देता हूं। मैं उनके लिए एयरक्राफ्ट का भी इंतजाम करूंगा ताकि वह यहां आकर जमीनी हकीकत देख सकें।'