कांग्रेस का आरोप, राहुल गांधी को अबतक नहीं मिली है कैलाश मानसरोवर यात्रा की इजाजत

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 जून): कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस साल कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाना चाहते हैं। इसके लिए कांग्रेस अध्यक्ष ने केंद्र सरकार से विशेष अनुमति मांगी है। दरअसल कांग्रेस अध्यक्ष ने तीर्थ यात्रा के लिए पंजीकरण की तारीख खत्म होने के बाद मानसरोवर यात्रा पर जाने की इच्छा जताई है। नियमों के मुताबिक जिन तीर्थयात्रियों ने यात्रा के लिए पंजीकरण कराया होगा, केवल उन्हें ही पवित्र मानसरोवर यात्रा पर जाने की अनुमति होती है। जानकारी के मुताबिक केंद्र सरकार सांसदों, विधायकों, मंत्रियों और राजनयिकों को मानसरोवर यात्रा पर जाने के लिए विशेष परमिट जारी करती है। इसी के चलते राहुल गांधी ने यात्रा पर जाने के लिए केंद्र के समक्ष याचिका दी है।गौरतलब है कि कर्नाटक चुनाव के दौरान कथित हेलीकॉप्टर दुर्घटना होते-होते बचने के बाद राहुल गांधी ने कैलाश मानसरोवर जाने का एलान किया था।  29 अप्रैल को दिल्ली के रामलीला मैदान में एक जनसभा में राहुल गांधी ने कहा था कि जब हेलीकॉप्टर में खराबी आई तो उनके मन में कैलाश मानसरोवर यात्रा का ख्याल आया। पिछले दिनों जब राहुल गांधी कर्नाटक में चुनाव प्रचार कर रहे थे तो हुबली जाते समय उनका हेलीकॉप्टर खराब हो गया था, हालांकि हेलीकॉप्टर को सुरक्षित लैंड करा लिया गया था।आपको बता दें कि कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए आवेदन मार्च-अप्रैल में ही करना पड़ता है और उसका ड्रॉ मई में निकलता है। मानसरोवर यात्रा धारचूला से 12 जून से शुरू हुई है और हर चार दिन पर एक जत्था यात्रा के लिए रवाना होता है। 19 अगस्त को यात्रा खत्म हो रही है। इस बार यात्रा पर कुल 18 जत्थे गए हैं।