JNU में बोले राहुल, 'छात्रों की आवाज दबाने वाले सबसे बड़े देशद्रोही'

नई दिल्ली (13 फरवरी): कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी शनिवार शाम जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) पहुंचे। यहां पहुंचकर राहुल ने संबोधित करते हुए कहा कि देश में छात्रों की आवाज दबाने की कोशिश की जा रही है। ऐसा करने वाले खुद सबसे बड़े देशद्रोही हैं।

जेएनयू परिसर पहुंचे राहुल गांधी ने कहा, "मैं कुछ दिन पहले हैदराबाद में था और तब भी कुछ नेता रोहित वेमुला को देशद्रोही बता रहे थे। सबसे बड़े देशद्रोही तो वे लोग हैं जो इस संस्थान के अंदर से निकलने वाली आवाज को दबाना चाहते हैं।"

राहुल ने कहा, "युवा लोग अपनी राय सामने रख रहे हैं और सरकार उन्हें देशद्रोही बता रही है। उन्हें तो ये भी नहीं पता कि वे आपकी आवाज को दबाकर आपको मजबूत बना रहे हैं।"

इससे पहले जेएनयू परिसर पहुंचते ही वहां मौजूद कुछ छात्रों ने "राहुल गांधी वापस जाओ" के नारे लगाए। राहुल गांधी को ABVP कार्यकर्ताओं ने काले झंडे दिखाए। इसके बाद लगभग 25 ABVP कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया।

राहुल के पहुंचने पर एबीवीपी ने जेएनयू सुरक्षा अधिकारी को पत्र लिखा। बिना अनुमति के कैंपस में नेताओं के घुसने पर सवाल उठाए। इधर, जेएनयू सुरक्षा अधिकारी ने लाउड स्पीकर बंद करवा दिया है। पहले से ही वहां पर सीपीएम नेता सीताराम येचुरी, कांग्रेस नेता आनंद शर्मा और अजय माकन वहां पहुंच चुके थे।

इससे पहले जेएनयू छात्र संघ के अधय्क्ष कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने 7 और छात्रों को हिरासत में लिया गया था। इधर, जेएनयू विवाद पर फारुख़ अब्दुल्ला ने कहा कि मुझे लगता है कि गिरफ्तार किए गए लोगों को छोड़ देना चाहिए और उनसे बात करके पूछना चाहिए कि आखिर उन्होंने ऐसा क्यों किया?

कई बड़े विपक्षी नेता रहे मौजूद

राहुल गांधी के जेएनयू पहुंचने पर कई पार्टियों के वरिष्ठ नेता भी मौजूद रहे। कांग्रेस की तरफ से जहां आनंद शर्मा और अजय माकन रहे। वहीं सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी व सीपीआई नेता डी राजा भी जेएनयू में मौजूद रहे।

इससे पहले सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी और सीपीआई नेता डी राजा ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। इस मुलाक़ात के बाद येचुरी ने छात्रों पर की गई पुलिसिया कार्रवाई को ग़लत बताते हुए कहा कि छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को तुरंत रिहा किया जाए।