रोड़ शो के दौरान बोले राहुल गांधी- यूपी में हम फ्रंटफुट पर खेलेंगे, बैकफुट पर नहीं

                                                                                Photo:ANI

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (11 फरवरी): 2019 का लोकसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है। देश की सभी राजनीतिक पार्टियां अपने-अपने संगठन को मजबूत करने में जूटी हैं। आज यूपी में कांग्रेस मेगा रोड़ शो कर रही है। प्रियंका गांधी वाड्रा, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पश्चिमी यूपी के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ लखनऊ पहुंची हैं। रोड़ शो के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने छोटे से भाषण में कहा कि हम यूपी में फ्रंटफुट पर खेलेंगे ना कि बैकफुट पर। इसके साथ ही प्रियंका गांधी वाड्रा और ज्योतिरादित्य सिंधिया को यूपी का प्रभारी मुख्य रूप से 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है।

राहुल ने कहा, 'उत्तर प्रदेश का कोई केंद्र है, दिल है तो वह लखनऊ है। मैंने प्रियंका और सिंधिया जी को यहां का जनरल सेक्रटरी बनाया है। मैंने उनको कहा है कि उत्तर प्रदेश में जो सालों से अन्याय हो रहा है, उसके खिलाफ इन दोनों को लड़ना है और यूपी में न्यायवाली सरकार लानी है। इनका लक्ष्य लोकसभा में जरूर है पर इनका लक्ष्य 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की सरकार बनाने का है। हम यहां फ्रंट फुट पर खेलेंगे, बैक फुट पर नहीं खेलने वाले हैं। जब तक यहां कांग्रेस की विचारधारा वाली सरकार नहीं बनेगी तब तक मैं, प्रियंका और सिंधियाजी चैन से बैठने वाले नहीं हैं।

रोड़ शो के दौरान चौकीदार चोर है के लगवाए नारे

राहुल गांधी ने लोगों के संबोधित करते हुए लखनऊ की जनता का आभार जताया, और अंत में चौकीदार चोर है के नारे लगवाए। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, 'नरेंद्र मोदी ने पैरलल निगोशिएशन किया। नरेंद्र मोदीजी ने भ्रष्टाचार का जो क्लॉज था, उसे मिटाया और अनिल अंबानी को 30 हजार करोड़ रुपये का फायदा पहुंचाया।' रोड शो के दौरान राहुल गांधी ने 'चौकीदार चोर है' के नारे भी लगवाए।

बता दें कि राहुल गांधी के इस बयान के सियासी मायने भी निकाले जाने लगे हैं। दरअसल, राहुल गांधी कहीं न कहीं स्पष्ट रूप से संकेत दे रहे हैं कि जिस यूपी में 2022 के विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव बीएसपी सुप्रीमो मायावती से मिल बैठे हैं, वहां पर उनके सामने बीजेपी के अलावा कांग्रेस भी एक मुख्य प्रतिद्वंद्वी के रूप में दिखने वाली है।