GST के लिए रात 12 बजे खोला संसद, पर किसानों के लिए एक मिनट नहीं- राहुल गांधी

बांसवाड़ा (19 जुलाई): कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने एकबार फिर मोदी सरकार पर किसानों के साथ भेदभाव का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार GST लागू करने के लिए आधी रात को संसद का विशेष सत्र बुला लेती है, लेकिन किसान की आवाज को संसद में उठाने की अनुमति नहीं दी जाती है। राहुल गांधी ने ये बातें राजस्थान के बांसवाड़ा में आयोजित किसान आक्रोश रैली में कही।

बांसवाड़ा में किसान आक्रोश रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने BJP और RSS को किसान और मजदूर विरोध बताया। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में सिद्धारमैया और पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह अगुवाई में कांग्रेस की सरकार बनी थी, इन दोनों मुख्यमंत्रियों ने 24 घंटे में किसानों का कर्ज माफ कर दिया। राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस के दबाव में आकर उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने किसानों का कर्ज माफ करने का फैसला लिया है।

GST को लेकर केंद्र सरकार पर हमला करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि BJP सरकार ने GST को धूमधाम के साथ लागू करने के लिए आधी रात को चुना। मैंने उनसे पहले ही कहा था कि GST गरीबों और छोटे कारोबारियों के ऊपर लादा गया टैक्स है। ये केवल अमीरों का ध्यान रखते हैं, गरीब के साथ कुछ भी हो जाए, इन्हें मतलब नहीं है, यही BJP और RSS की सच्चाई है।

साथ ही उन्होंने कहा कि जब कोई अमीर, पूंजीपति बैंक जाता है तो उसके लिए रेड कॉर्पेट बिछाया जाता है। उनसे पूछा जाता है आप कितना कर्ज लेंगे। वहीं एक गरीब, मजदूर जब बैंक जाता है तो उसके लिए दरवाजे बंद होते हैं। हमसे और सोनिया गांधी से जब किसान मिलने आते हैं तो वे बैंकों का दरवाजों खुलवाने को कहते हैं। किसान हमसे मिलते हैं तो वे हमें मनरेगा के लिए शुक्रिया करते हैं, वे कहते हैं कि आपने देश के हर मजदूर को रोजगार दिया, इसलिए हम पूरी तरह आपके साथ हैं।