कांग्रेस की सरकार आयेगी तो अर्धसैनिक बलों को शहीद का दर्जा मिलेगा:राहुल गांधी


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 फरवरी): शनिवार को दिल्ली में काग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी छात्रों को संबोधित करने पहुंचे। शिक्षा: दशा और दिशा नाम से यह कार्यक्रम जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में रखा गया, जहां राहुल देश में शिक्षा की स्थिति को लेकर छात्रों से रूबरू हुए।  इस दौरान राहुल नए लुक में नजर आएं, छात्रों के बीच वो जींस-टीशर्ट और हाफ जैकेट में पहुंचे। 


राहुल गांधी ने शहीदो को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि हमारी सरकार आई तो हम अर्धसैनिक बलों को शहीद का दर्जा देंगे। शिक्षण संस्थानों को लेकर उन्होंने कहा कि सरकार शिक्षण संस्थानों में दखल दे रही है। मोदी सरकार ने शिक्षा बजट में कटौती की है। शिक्षण संस्थानों को हथियार बनाए जाने की जरूरत है। विश्वविद्यालयों में एक जैसी विचारधारा के वीसी हैं।


दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स के छात्र के सवाल के जवाब में राहुल ने कहा कि आज देश में सब कुछ 15 से 20 लोगों के लिए हो रहा है, अपना फोन देखिए, बंदरगाह देखिए कुछ लोगों के लिए काम हो रहा है। हम चाहते हैं कि राज्य अपने बजट का ज्यादा से ज्यादा शिक्षा पर करे।  आप देख सकते हैं कि हमारी सरकार के बाद शिक्षा के बजट में कमी आई है। बीजेपी को लगता है कि आप निजिकरण से शिक्षा में प्रगति ला सकते हैं. लेकिन हम इसमें विश्वास नहीं करते। 


राहुल गांधी ने कहा कि मैं यहां अपने सामान्य वेशभूषा में नहीं आया इसके पीछे तर्क है। मैं अपनी बात रखूंगा लेकिन उससे ज्यादा मैं अपसे सुनना चाहता हूं, आपके मुद्दे क्या हैं और हम क्या कर सकते हैं। इस चर्चा के दौरान उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने उद्योगपतियों का 3.5 लाख करोड़ रुपये का कर्ज माफ किया। 15-20 उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाया गया है। किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ।


राहुल ने पूछा कि क्या प्रधानमंत्री कभी आपके (छात्रों) पास आकर इस तरह से बात करते हैं. लेकिन मैं आता हूं कि आप मुझसे कठिन सवाल पूछ सकते हैं. पीएम को आपकी बात सुननी चाहिए ना कि अपनी बात बतानी चाहिए। देश और दुनिया में दक्षिणपंथ के उभार के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा भारत, अमेरिका और यूरोप की समस्या को देखें तो मुख्य समस्या यह है कि युवाओं को नौकरी नहीं मिल रही। रोजगार न मिलने के चलते युवाओं में रोष है और दक्षिणपंथी इसका फायदा उठा रहे हैं। हमारा मुख्य मुकाबला चीन के साथ है. लेकिन सरकार यह स्वीकार नहीं कर रही कि देश में रोजगार संकट है।  इसका हल हो सकता है, लेकिन इससे पहले मानना होगा कि कहीं न कहीं समस्या है। 


कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लोग एक के बाद एक विश्वविद्यालयों में बैठाए जा रहे हैं। उन्हें सिर्फ अपनी विचारधारा से मतलब है, छात्रों से कोई लेना देना नहीं. वो चाहते हैं कि हिंदुस्तान का शिक्षा तंत्र उनका गुलाम बन जाए. लेकिन ऐसा नहीं हो सकता, हमारा जवाब होगा कि इन संस्थाओं को स्वतंत्रता मिले, छात्रों को तय करने का मौका दिया जाए। 


गौरतलब है कि आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समाज के विभिन्न वर्ग के प्रतिनिधियों से मिल रहे हैं और उनसे जुड़े मुद्दों को समझने की कोशिश कर रहे हैं। इसी क्रम में राहुल गांधी ने 'अपनी बात, राहुल के साथ' अभियान के तहत दिल्ली के एक चाइनीज रेस्टॉरेंट में पिछले दिनों दिल्ली, मुंबई में पढ़ने वाले छात्रों से डिनर पर मिले थें।