राजन ने बताया, सेकेंड टर्म नहीं लेने का यह कारण

नई दिल्ली (10 अगस्त): भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर रघुराम राजन के दूसरी पारी को लेकर मचे बवाल और इसके लिए मना करने के मुद्दे पर पहली बार अपनी बात रखी है। राजन ने अपने ऊपर होने वाले राजनैतिक हमलों को काफी घटिया बताते हुए कहा कि बतौर गवर्नर वह और ज्‍यादा वक्‍त तक सेवा देना चाहते थे ताकि अधूरे पड़े कामों को पूरा किया जा सके।

राजन ने कहा क‍ि वह और ज्‍यादा वक्‍त तक गवर्नर पद पर रहना चाहते थे, लेकिन सरकार के साथ बातचीत की प्रक्रिया किसी निर्णायक नतीजे तक नहीं पहुंच सकी। इसके साथ ही राजन ने यह भी कहा कि वह काफी खुशी-खुशी अपनी कुर्सी छोड़ रहे हैं। राजन अगले महीने गवर्नर पद से रिटायर होने वाले हैं।

बता दें कि बीजेपी नेता सुब्रमण्‍यन स्‍वामी कई मौकों पर सार्वजनिक रूप से राजन पर हमला कर चुके हैं। अपने ऊपर होने वाले इस तरह के हमलों के बारे में राजन ने कहा, 'इस तरह के कुछ हालिया हमले काफी घटिया थे। इनका मकसद मेरे ऊपर दोषारोपण करना था। इन हमलों का कोई आधार नहीं था।'

राजन ने यह भी कहा कि सरकार द्वारा अपनी पुनर्नियुक्ति या भविष्‍य के करिअर को लेकर उन्‍होंने कभी भी चिंता नहीं की और देशहित में उन्‍होंने वह सब कुछ किया जो वह कर सकते थे। राजन ने कहा कि बतौर टीम प्‍लेयर उन्‍होंने श्रेष्‍ठ भूमिका निभाई है।