पाकिस्तान को मिली पहली 'बम डिफ्यूज' गर्ल

पेशावर (14 जनवरी): पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वाह प्रांत की रहने वाली राफिया कासिम बेग बम निरोधक दस्ते (BDU) में शामिल होने वाली पहली महिला बन गई हैं। 29 साल की राफिया इस टीम में शामिल होने वाली पहली महिला हैं। राफिया पाकिस्तान की पहली बम डिस्पोजल ऑफिसर बन गई हैं जो अपनी जान पर खेल कर बम डिफ्यूज करती है।

अपने 31 पुरुष साथियों के साथ 15 दिन की ट्रेनिंग के बाद रफिया को युनिट में शामिल किया गया है। रफिया ने सात साल पहले कॉन्सटेबल के तौर पर पुलिस फोर्स जॉइन किया था। अब वह बीडीयू में काम करेंगी। ट्रेनिंग के दौरान रफिया को बम के बारे में हर तरह की जानकारी दी गई जैसे कैसे बम को पहचाना जाए और उसे डिफ्यूज किया जाए।

रफिया के पढ़े-लिखे परिवार से ताल्लुक रखती है। और खुद इंटरनैशनल रिलेशंस में मास्टर्स कर चुकी और अब लॉ की पढ़ाई कर रही है। सात साल पहले एक सेशन कोर्ट के सामने हुए ब्लास्ट के बाद रफिया ने फोर्स में शामिल होने की ठानी और फिर वह रुकी नहीं। खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में आतंकवादी अकसर सुरक्षाबलों को निशाना बनाकर हमले करते हैं। पुलिस बल में नियुक्ति के बाद रफिया को पेशावर के अदेजई, मिचनी और सलमान खेल जैसे इलाकों में ट्रेनिंग के लिए जाना पड़ा था। ये इलाके रेड जोन घोषित हैं।