राफेल के आगे टिक नहीं पाएगा पाकिस्तान

नई दिल्ली (23 सितंबर): भारतीय वायुसेना के बेड़े में जल्द ही राफेल शामिल होने जा रहा है। फ्रांस के साथ डील पर अब पूरी तरह मुहर लग गई है। राफेल में इतनी ताकत है कि उसके महातूफान के आगे पाकिस्तान कहीं नहीं टिक सकता।

हिंदुस्तान के आसमान का एक और सिकंदर पाकिस्तान में मिनटों में तबाही बरपाने को तैयार है। नाम है राफेल यानी बर्बादी का महातूफान। भारत और फ्रांस के बीच राफेल की डील सील हो गई है। भारत फ्रांस से 36 राफेल विमान खरीदेगा। इसके बाद पाकिस्तान हिंदुस्तान से मुकाबले की तो दूर आस-पास फटकने की भी नहीं सोच सकता।

- राफेल का हवा से हवा और हवा से जमीन पर मार करने में कोई जवाब नहीं। - 2,130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भरने वाले राफेल के टक्कर का पाकिस्तान तो छोड़िए चीन तक के पास कोई लड़ाकू जहाज नहीं। - परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम राफेल की 36 महीने बाद भारतीय वायुसेना में तैनाती शुरू हो जाएगी। - 4 टन वजनी राफेल दुश्मन के छोटे से छोटे ठिकाने पर भी अचूक निशानालगा सकता है। - इसका वार कभी खाली नहीं जाता। इसमें बियोंड विजुअल रेंज मिसाइल लगी है जो रात के अंधेरे में भी टारगेट को हिट कर सकती है। - ये मटियोर मिसाइल से लैस है। - 24 घंटे में जहां दूसरे जहाज तीन बार लंबी उड़ान भर सकते हैं तो राफेल 5 बार जंग के मिशन पर उड़ान पर सकता है। - राफेल में भारत की जरूरत के लिहाज से 11 बदलाव किए गए हैं। - ये लद्दाख के ठंडे मौसम में भी कामयाबी से उड़ान भर सकता है, जिससे पाकिस्तान के साथ ही चीन की नींद उड़ सकती है।

राफेल की तैनाती के बाद भारतीय वायुसेना की ताकत के आगे पाकिस्तान मुकाबले में दूर-दूर तक कहीं नहीं टिकेगा। मौजूदा स्थिति में भी पाक की भारत के सामने कोई हैसियत नहीं।

- इंडियन एयरफोर्स के पास कुल 2086 फाइटर प्लेन हैं, वहीं पाक के पास सिर्फ 923 हैं- - भारतीय वायुसेना के बेड़े में सुखोई के साथ ही मिराज, जगुआर, मिग-29 और मिग-27 जैसे फाइटर प्लेन भी हैं। तो तेजस जैसा शानदार एलसीए भी है। - वहीं दुनिया का सबसे बड़ा मिलिट्री मालवाहक विमान C17 ग्लोबमास्टर भी एयरफोर्स के पास है। - ऐसे में पाकिस्तान चाहे जितनी डींगें हांक ले, लेकिन हिंदुस्तान से टकराने की उसकी हिम्मत ऐन मौके पर जवाब दे जाएगी।