राफेल डील से बाहर आया एक और बवंडर- डिफेंस डील में भ्रष्टाचार के दरवाजे किसने खोले?

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली (11 फरवरी):   राफेल डील में कथित अनियमितताओं के आरोप के बीच एक नया विवाद सामने आया है। कहा जा रहा है कि मानक रक्षा खरीद प्रक्रिया में भ्रष्टाचार के खिलाफ पेनल्टी से जुड़े अहम प्रावधानों को मोदी सरकार ने हटाया कर भ्रष्टाचार के नये दरवाजे खोल दिये। वहीं सत्ता पक्ष के लोगों का कहना है कि इन प्राविधानों को यूपीए सरकार के दौरान ही हटाया गया था। मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने तो सिर्फ उन प्रावधानों का अनुपालन किया है। 

बहरहाल इन आरोप-प्रत्यारोपों के बीच सीएजी ने राफेल पर अपनी रिपोर्ट राष्ट्रपति को भेज दी है। अब इस डील पर तैयार कैग रिपोर्ट के संसद में रखे जाने का इंतजार किया जा रहा है। सीएजी अपनी रिपोर्ट की एक कॉपी राष्ट्रपति के पास और दूसरी कॉपी वित्त मंत्रालय के पास भेजते हैं।ऐसा बताया जा रहा है कि सीएजी ने राफेल पर 12 चैप्टर लंबी विस्तृत रिपोर्ट तैयार की है। कुछ हफ्ते पहले ही रक्षा मंत्रालय ने राफेल पर विस्तृत जवाब और संबंधित रिपोर्ट सीएजी को सौंपी थी, जिसमें खरीद प्रक्रिया की अहम जानकारी के साथ 36 राफेल की कीमतें भी बताई गईं थीं।

सीएजी की यह रिपोर्ट काफी लंबी है, जिसे प्रोटोकॉल के तहत सबसे पहले राष्ट्रपति के पास भेजा गया है। अब राष्ट्रपति भवन की ओर से सीएजी रिपोर्ट लोकसभा स्पीकर के ऑफिस और राज्यसभा चेयरमैन के ऑफिस को भेजी जाएगी। बजट सत्र बुधवार को समाप्त हो रहा है। ऐसे में माना जा रहा है कि कल मंगलवार या परसों बुधवार को ही राफेल पर कैग रिपोर्ट को लोकसभा और राज्यसभा के पटल पर रखी जा सकती है। 

मीडिया रिपोर्ट में सोमवार को किए गए दावे के बीच भारतीय पक्ष की तरफ से राफेल वार्ता का नेतृत्व करने वाले एयर मार्शल एसबीपी सिन्हा ने जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि एक पॉइंट को साबित करने के लिए कुछ नोट्स सिलेक्टिव तरीके से उठाए जा रहे हैं। उन्होंने साफ कहा कि इनमें सच्चाई नहीं है। भारतीय टीम ने जो अपनी अंतिम रिपोर्ट दी है उस पर सभी सात सदस्यों ने बिना किसी असहमति के हस्ताक्षर किए हैं। सरकार से सरकार के बीच कॉन्ट्रैक्ट में ऐंटी-करप्शन क्लॉज पर एयर मार्शल सिन्हा ने कहा कि अब तक हमारा अमेरिका और रूस के साथ 'सरकार से सरकार के बीच' कॉन्ट्रैक्ट था। यह तीसरा 'सरकार से सरकार' कॉन्ट्रैक्ट है, जो फ्रांस के साथ हुआ। ऐसा क्लॉज इनमें से किसी के साथ नहीं था। 

(IMAGE COURTESY: GOOGLE)