भारत को राफेल से चीन में खलबली, कहा हमारे पास इसका जवाब है 'क्वांटम रडार'

नई दिल्ली (25 सितंबर): भारतीय वायु सेना की बढ़ती ताकत से केवल पाकिस्तान ही नहीं चीन भी बेहद परेशान है। भारत और फ्रांस के बीच नई पीढ़ी के फ्रांसीसी राफेल जहाजों की डील साइन होते ही चीन ने ऐसी टैक्नोलॉजी विकसित करने का दावा किया है जो 100 किलोमीटर पहले ही अदृश्य दुश्मन को पहचान लेती है। किसी भी देश की रक्षा प्रणाली के लिए दुश्मन का मुकाबला करने के लिये काफी माना जाता है।

इस टैक्नोलॉजी को घोस्टली फिनोमिनन पर बेस्ड क्वांटम इनटैंगलमेंट कहा जाता है। आइंसटीन ने इस टैक्नोलॉजी को स्पूकी एक्शन एट ए डिस्टेंस बताया था। चीन ने जिस टैक्नोलॉजी के रडार को विकसित करन का दावा किया है उसे साधारण भाषा में क्वांटम रडार कहते हैं। ये भी कहा जा रहा है कि अमेरिका ने भी ऐसा ही रडार विकसित करने का प्रोजेक्ट शुरु किया है। इतना सबकुछ हो जाने के बाद चीन की सरकार चुप्पी पर लोग चीनी मीडिया के दावे पर संशय क रहे हैं। इसके अलावा अमेरिका या किसी अन्य देश ने भी अभी तक चीनी क्वांटम रडार के दावे पर कोई टिप्पणी नहीं की है।