अगर पैंट की जेब में रखते हैं मोबाइल, तो हो जायें सावधान

                                                                                 Photo:Google


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (13 फरवरी): मोबाइल फोन से निकलने वाला रेडियशन हमारे स्वास्थ पर बुरा प्रभाव डालता है। अगर आप मोबाइल फोन को अपने जेब में रखते हैं तो यह आपके प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती है। इस इस बारे में पहले से ही काफी चर्चा है कि हाई SAR (स्पेसिफिक अब्जॉर्प्शन रेट) वैल्यू वाले बॉडी को सेल्यूलर लेवल पर नुकसान पहुंचाते हैं। खासकर तब जब अपने फोन को कानों पर लगाकर घंटों बात करते हैं। लेकि अब इस विषय पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया गया कि स्मार्टफोन से निकलने वाले रेडिएशन स्पर्म को भी नुकसान पहुंचाते हैं।







स्पर्म काउंट पर सेल फोन रेडिएशन के प्रभावों को निर्धारित करने के लिए कई रिसर्च किए गए हैं। सेंट्रल यूरोपियन जर्नल ऑफ यूरोलॉजी में 2014 के रिसर्स में पाया गया कि जिन पुरुषों ने अपने फोन को लंबे समय तक सामने की जेब में रखा, उनमें स्पर्म की संख्या कम थी और DNA फ्रैंगमेंटेशन के साथ स्पर्म सेल्स की संख्या ज्यादा थी। शोध के निष्कर्ष के अनुसार, ऐसे पुरुष जो पिता बनने के लिए खुद को तैयार कर रहे हैं, खासकर जब उन्हें फर्टिलिटी की समस्या मौजूद हो, तो बेहतर होगा कि ट्राउजर की जेब में मोबाइल फोन को लंबे समय तक रखने से बचें।






vox.com की एक रिपोर्ट को माने तो कहती है कि फर्टिलिटी के लिहाज से महिलाओं की तुलना में फोन रेडिएशन का ज्यादा असर पुरुषों पर होता है। ऐसा स्पर्म और ओवरी की लोकेशन की वजह से होता है। ओवरी महिलाओं के शरीर में काफी अंदर मौजूद होते हैं जहां तक रेडिएशन का असर आसानी से नहीं पहुंच पाता। दूसरी तरफ पुरुषों की बॉडी में स्पर्म सेल्स टेस्टिस में मौजूद होते हैं जो बॉडी के बाहर होता है। ऐसे में रेडिएशन का असर महिलाओं की तुलना में पुरुषों में ज्यादा तेजी से होता है।