मां बनने के लिए कंपनी नहीं दे रही इस महिला को छुट्टी

नई दिल्ली (24 जुलाई): नोएडा की एक कंपनी पर आऱोप है कि उसने एक कर्मचारी को मैटरनिटी लीव मांगने पर निकाल दिया। पीड़ित कर्मचारी राधिका गुप्ता की मानें तो जब उन्होंने मैटरनिटी लीव मांगी तो कंपनी ने उन्हें नौकरी से ही निकाल दिया। राधिका का ये भी आरोप है कि उन्हें मानसिक रूप से परेशान किया गया। वहीं कंपनी ने आरोपों को नकारते हुए कहा है कि राधिका को खराब बर्ताव की वजह से निकाला गया है। एक ओर जहां प्रेग्नेंसी में साथ, देखभाल और अच्छे माहौल की दरकार होती है, वैसे में एक होने वाली मां को इस तरह टॉर्चर करना वाकई किसी अपराध से कम नहीं।

क्या है कहानी 8 साल की राधिका ने 2014 में रेडियस सिनर्जी इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी बतौर असिस्टेंट मैनेजर ज्वाइन की थी। 2016 में उन्होंने फैमिली प्लान की लेकिन ऑफिस की जिम्मेदारियों से किनारा नहीं किया। 7 महीने की प्रेग्नेंट होने के बावजूद वो जून 2016 तक ऑफिस जाती रहीं। लेकिन जब उन्होंने अपनी कंपनी से मैटरनिटी लीव की बात कही तो कंपनी के रुख ने उन्हें परेशानी में डाल दिया।