Film Review: जानिए, कैसी है राधिका आप्टे की साइकोलॉजिकल थ्रिलर फिल्म 'फोबिया'

नई दिल्ली (27 मई): बॉलिवुड की एक और साइकोलॉजिकल -थ्रिलर फिल्म ‘फोबिया’ रिलीज हो गई है। जब से इस फिल्म का ट्रेलर आया था, लोगों में इसको लेकर उत्सुकता देखने को मिल रही थी। पवन कृपलानी के निर्देशन में बनी इस फिल्म में राधिका आप्टे और सत्यदीप मिश्र ने मुख्य भूमिकाएं निभाई हैं। पवन इससे पहले ‘रागिनी एमएमएस’ और ‘डर एट द माल’ जैसी कई थ्रिलर फिल्में बना चुके हैं। ऐसे में हालिया फिल्म कहीं ना कहीं उनकी पुरानी फिल्मों को भी टक्कर देती है।

तो आइए बताते हैं, फिल्म की कहानी के बारे में। फिल्म के केंद्र में है मुंबई की रहने वाली महक यानि राधिका आप्टे। महक एगोराफोबिया नाम के मनोरोग से पीड़ित है। उसके साथ एक रात ऐसा हादसा हो जाता है कि वह खुद को एक कमरे में बंद कर लेती है। अलग-अलग समय में कई सारी चीजे एक साथ दिखाई देती हैं। जिसे देखकर वो डरती रहती हैं, वो घर से निकलना भी बंद कर देती है। 

इसी फोबिया की वजह से महक का दोस्त शान यानी सत्यदीप मिश्र उसे एक नए अपार्टमेंट में शिफ्ट करता है। लेकिन नए घर में भी कई सारी घटनाएं घटती रहती हैं। जिसकी वजह से बहुत सारे उतार चढ़ाव सामने आते हैं, महक की हालत दिनो-दिन और बिगड़ती जाती है। आखिर, महक के फोबिया कि वजह क्या है और वह इससे बाहर निकल पाती है या नहीं? यह तो आपको फिल्म देखकर ही पता लगेगा।

फिल्म में कई ऐसे दिलचस्प मोड़ आते हैं, जो दर्शकों की उत्सुकता बनाए रखते हैं। अब अगर फिल्म के निर्देशन की बात करें, तो फिल्म देख चुके दर्शकों की राय में फिल्म का निर्देशन अच्छा है। निर्देशक ने एक घर के भीतर होने वाली कई घटनाओं को बहुत दिलचस्प तरीके से फिल्माया है। 

एक्टिंग के लिहाज से राधिका आप्टे एक बार फिर से दर्शकों पर प्रभाव छोड़ती हैं। उन्होंने फिर से साबित कर दिया है कि वह बॉलिवुड में एक लंबी पारी खेलने वाली हैं। फिल्म की कहानी में कई ऐसे सीन आते हैं, जहां उनकी एक्टिंग काफी प्रभावित करती है। सत्यदीप मिश्रा ने भी अपनी भूमिका के साथ न्याय किया है। कुल मिलाकर फिल्म दर्शकों को दिलचस्प लगती है। फिल्म का बैकग्राउंड म्यूज़िक भी काफी गहन है, जो थीम के अनुसार ही है।