दीपा और सिंधू का हुआ भव्य स्वागत

नई दिल्ली (22 अगस्त): रियो ओलंपिक से लौटने के बाद भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू और जिमनास्टिक दीपा करमाकर का भव्य स्वागत हुआ। सिंधू का हैदराबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उनका जोरदार वेलकम हुआ।

गछिबोवली स्टेडियम तक मुंबई से मंगाई गई डबल डेकर बस में विजयी जुलूस निकाला गया... - जुलूस को राजीव गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से गछिबोवली स्टेडियम तक करीब 32 किमी कोई दूरी तय करने में 4 घंटे लगे। - यहां तेलंगाना सरकार ने उनके सम्मान में एक प्रोग्राम को ऑर्गनाइज किया था। इस रूट पर लोग जगह-जगह उनके स्वागत के लिए खड़े देखे गए। - जिस बस में सिंधु का विजय जुलूस निकाला गया, उसे मुंबई से हैदराबाद लाया गया है। - तेलंगाना सरकार ने मुंबई की बीईएसटी से खुली बस की मांग की थी, जिसके बाद डबल डेकर बस दी गई। इसके साथ स्टाफ को भी भेजा गया है। - तेलंगाना के आईटी मिनिस्टर केटी रामा राव के साथ दूसरे अफसर इस प्रोग्राम को लीड कर रहे थे। - बता दें कि तेलंगाना और आंध्र प्रदेश सरकार में सिंधु के वेलकम और पुरस्कार देने को लेकर होड़ सी लगी है। विजय जुलूस के दौरान दोनों सरकारों के मंत्री मौजूद रहे।

अगरतला में दीपा और उनके कोच बिस्वेश्वर नंदी का भव्य स्वागत किया गया... - दीपा ओपन जीप में सवार होकर स्वागत रैली में शामिल हुईं। ओलिंपिक के वॉल्ट फाइनल में क्वालिफाई करने वाली पहली भारतीय बनकर इतिहास रचने वाली दीपा की एक झलक पाने के लिए पूरा शहर उमड़ा था। - इससे पहले दिल्ली में उनका जोरदार स्वागत किया गया था।  दीपा ने बताया था कि फाइनल में प्रदर्शन के बाद ही उन्हें लग गया था कि वह चौथे स्थान पर आएंगी। लेकिन जब उन्हें पता चला के वह बेहद कम मार्जिन से चूकी हैं तो उन्हें अफसोस हुआ। - दीपा कर्माकर ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई करने वाली देश की पहली महिला जिम्नास्ट हैं। अपने बेहतरीन प्रदर्शन से उन्होंने जिम्नास्टिक्स को भारत में एक खेल के रूप में पहचान दिलाई। हालांकि महज 0.15 अंको से वह पदक से चूक गईं और चौथे स्थान पर रहीं. दीपा का कहना है कि उन्होंने अपना बेस्ट किया और आगे और बेहतर करेंगी। उनका लक्ष्य 2020 में होने वाला टोक्यो ओलिंपिक है।