#SindhuVsCarolina : 'गोल्डन' मुकाबला सिंधू हारीं, भारत का दिल जीता

नई दिल्ली (19 अगस्त): रियो ओलंपिक में बैडमिंटन महिला सिंगल्स में पीवी सिंधू ने शानदार प्रदर्शन कर प्रतिद्वंदी स्पेन की कैरोलीना मैरीन को कड़ी टक्कर दी। इस मुकाबले में उन्होंने ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की। पहली बार ऐसी भारतीय खिलाड़ी बन गईं, जिन्होंने बैडमिंटन में सिल्वर मेडल जीता। हालांकि, वह गोल्ड हासिल नहीं कर पाईं, लेकिन वर्ल्ड नंबर वन कैरोलीना मैरीन के छक्के छुड़ा दिए और भारत का दिल जीत लिया। इस मुकाबले में कैरोलीना ने 21-19, 12-21, 15-21 से गोल्ड हासिल किया।

मुकाबले में कई ऐसे मौके आए, जब दर्शकों की सांसे थम गईं। मैच की शुरुआत में आक्रामक रवैया अपनाते हुए स्पेन की कैरोलीना ने सिंधू के खिलाफ बढ़त बनाई। इसके बाद कैरोलीना ने शटल चेंज की डिमांड की। शटल चेंज के बाद सिंधू ने संयम बरतते हुए तेजी दिखाई और मुकाबले को टक्कर पर लाया और 16-17 के स्कोर पर बिल्कुल करीबी पर लाया। इस दौरान दर्शकों की सांसे बढ़ती रहीं। इसके बाद सिंधू ने भरोसे के साथ बढ़त बनाते हुए पहला गेम 21-19 से जीत लिया।

दूसरे गेम में एक बार फिर कैरोलीना ने आक्रामक रवैया अपनाया और लगातार बढ़त बनाते हुए सिंधू को पीछे छोड़ दिया। सिंधू सेकेंड गेम हाफ तक 12-4 से पीछे हो गईं। फिर दूसरे गेम के आखिर तक 21-12 से पिछड़ गईं।

तीसरे गेम में भी शुरुआत में कैरोलीना आक्रामक रहीं। लगा कि सिंधू पिछड़ रही हैं, लेकिन फिर तेजी दिखाते हुए सिंधू गेम को 10-10 की बराबरी पर लाईं। आखिर में 15-21 स्कोर से वह तीसरा गेम हार गईं।

देश का पहला सिल्वर

गोल्डन मुकाबले में जो स्थान भारत को सिंधू ने दिलाया है, वह अभी तक कोई दूसरा भारतीय खिलाड़ी नहीं दिला पाया। उन्होंने पहली बार देश को ओलंपिक में सिल्वर जिताया है। फाइनल में पहुंचने के साथ ही सिंधू ने देश के लिए गोल्ड की आस जगाई थी। पूरा देश पीवी सिंधु की जीत की दुआ मांग रहा था।

यह भी पढ़ें: सिंधू vs कैरोलिना, जानिए किसमें कितना है दम

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=72DRKgqZUiI[/embed]

फाइनल में पहुंचने तक ऐसा रहा सफर

- सिंधू आज जिस मुकाम पर पहुंची है वो अपने आप में एक इतिहास है। सिंधू ने सेमीफाइनल मुकाबले में जापान की नोजोमी ओकुहारा को सीधे गेमों में 21-19, 21-10 से शिकस्त दी।  सेमीफाइनल में जिस जोश के साथ सिंधू ने हल्ला बोला उसे देखते हुए यही लगता है कि हिंदुस्तानी की इस बेटी को गोल्ड से कम कुछ भी मंजूर नहीं है। हो भी क्यों ना रियो में अब तक कोई भी भारतीय खिलाड़ी गोल्ड मेडल नहीं जीत पाए हैं।