सिद्धू के नरम पड़े तेवर, 10 दिसंबर से पहले कैप्टन अमरिंदर से कर सकते हैं मुलाकात


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (4 दिसंबर): नवजोत सिंह सिद्धू के बयान को लेकर पंजाब कांग्रेस और पंजाब सरकार में जारी घमसान को खत्म करने की कवायद तेज हो गई है। पार्टी जल्द से जल्द इस विवाद को खत्म कराना चाहती है। बताया जा रहा है कि पार्टी 13 दिसंबर से शुरू होने वाले पंजाब विधानसभा सत्र से पहले इस विवाद को खत्म करना चाहती है। आपको बता दें कि 10 दिसंबर को विधानसभा सत्र को लेकर कैप्टन अमरिंदर सिंह के कैबिनेट की बैठक होने जा रही है। बताया जा रहा है कि इस बैठक से पहले ही नवजोत सिंह सिद्धू पर पूरे विवाद को खत्म करने और कैप्टन से मिलकर अपनी बात रखने का आलाकमान ने बनाया दबाव है। बताया जा रहा है कि 10 दिसंबर से पहले होगी नवजोत सिंह सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर सिंह की मीटिंग होगी।

आपको बात दें कि इस मामले को लेकर नवजोत सिंह सिद्धू के तेवर भी ढीले पड़ते दिखाई दे रहे हैं। सिद्धू ने राहुल गांधी को अपना 'कैप्टन' बता मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर तंज कसकर चौतरफा घिरने के बाद सफाई दी है। सिद्धू ने सोमवार को कहा कि पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह उनके पिता के समान हैं और वह उनसे मिलकर मामले को सुलझा लेंगे। बता दें कि सिद्धू के कैप्टन वाले बयान पर पंजाब की राजनीति में भूचाल आया हुआ है। अमरिंदर के करीबी मंत्रियों ने सिद्धू के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है और उनसे सीएम से माफी की मांग पर अड़े हुए हैं।

सिद्धू ने कहा, 'आप मैले कपड़े को सबके सामने नहीं धोना चाहेंगे। वह (कैप्टन अमरिंदर सिंह) पिता समान शख्स हैं। मैं उनसे प्यार करता हूं, इज्जत करता हूं। मैं उनसे खुद मिलकर मामले को सुलझा लूंगा।' हालांकि सिद्धू ने इस मसले पर माफी मांगने से इनकार किया है। गौरतलब है कि इससे पहले सिद्धू की पत्नी ने भी कहा था कि उनके पति हमेशा कहते हैं कि कैप्टन साहब उनके पिता के समान है।कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी को अपना 'कैप्‍टन' बताकर मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर तंज कसने वाले पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ राज्य के 18 मंत्रियों ने मोर्चा खोल दिया है। पंजाब के इन मंत्रियों की मांग है कि सिद्धू सीएम से माफी मांगें।