क्या कहता है बंपर वोटिंग, कहीं ये एंटी-इनकमबेंसी इफेक्ट तो नहीं ?

नई दिल्ली (5 फरवरी): विधानसभा चुनाव के तहत शनिवार को पंजाब और गोवा में वोटरों में भारी उत्साह देखा गया। दोनों जगहों पर भारी वोटिंग हुई। पंजाब में रिकॉर्ड 75 फीसदी के करीब वोटिंग हुई, वहीं गोवा में रिकॉर्ड 83 फीसदी मतदान हुआ।

पंजाब में भारतीय जनता पार्टी (BJP)-शिरोमणि अकाली दल गठबंधन, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (AAP) के बीच कांटे की टक्कर मानी जा रही है। यह पहला मौका है जब पंजाब में त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिल रहा है। साथ ही, बादल सरकार के विरोध में माहौल बना हुआ है। जानकार इस बंपर वोटिंग के बादल सरकार के खिलाफ लोगों में रोष के तौर पर देख रहे हैं।

इस गोवा में भी भारी वोटिंग हुई है। जानकार इसे एंटी-इनकमबेंसी फैक्टर के तौर देख रहे हैं। ऐसे में गोवा में फिर से बीजेपी की वापसी पर सस्पेंस बढ़ गया है। लिहाजा मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत पारसेकर के लिए सत्ता में फिर से वापसी की राह थोड़ी मुश्किल दिख रही है।

फिहलाह पंजाब और गोवा के वोटरों ने अपना मत तो दे दिया है, लेकिन पंजाब और गोवा की सत्ता को पर कौन काबिज होगा ये तो 11 मार्च को ही पता चल पाएगा। 11 मार्च को पांचों राज्यों के वोटों की गिनती होगी।