पुणे कोर्ट ने स्काइप के जरिए दिया तलाक


पुणे (1 मई): यहां की सिविल कोर्ट से एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे जानकर हर कोई हैरान है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एक जोड़े ने स्काइप के जरिए तलाक देने की मांग की। कोर्ट में पेश होने के लिए पति सिंगापुर से आया था, जबकि पत्नी लंदन से नहीं आ पाई।


पुणे कोर्ट ने मौके की नजाकत को समझते हुए उन्हें स्काइप के जरिए सुनवाई की इजाजत दे दी। यह संभवतः यह पहला मामला है जब स्काइप के जरिए पारिवारिक अदालत में इस तरह से सुनवाई हुई हो। इस जोड़े ने आपसी सहमति से 12 अगस्त, 2016 को तलाक की अर्जी दी थी। उन्होंने वीएस मलकानपट्टे-रेड्डी की कोर्ट में अर्जी दी थी।


कोर्ट में दाखिल याचिका के मुताबिक, कॉलेज में पढ़ाई के दौरान दोनों के बीच प्यार हुआ था। उनकी शादी अमरावती में हिंदू रीति-रिवाज से 9 मई, 2015 को हुई थी। इसके बाद वे पुणे के हिंजेवाड़ी में रहने लगे। दोनों अलग-अलग ऑफिस में काम करते थे। इसके बाद में उन्होंने पिंपल-सौदागर में फ्लैट खरीद लिया।


एक महीने बाद ही दोनों को विदेश जाने का अवसर मिला। पति को सिंगापुर और पत्नी को लंदन में नौकरी मिल गई। पति सिंगापुर चला गया, जबकि पत्नी पुणे में ही रही। उसने कहा कि वह भी बाहर जाना चाहती है, लेकिन शादी के कारण उसका करियर प्रभावित हो रहा था। याचिका में आगे कहा गया है कि इस कारण दोनों के बीच मतभेद बढ़ गए। इसके बाद उन्होंने अलग रहने का फैसला किया और 30 जून 2015 से अलग रह रहे हैं। उन्होंने आपसी सहमति से तलका का फैसला किया।