पाक को डर, भारत कभी भी कर सकता है हमला, नेशनल सेक्यूरिटी की बुलाई मीटिंग


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 फरवरी): जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले के बाद भारत में खासा आक्रोश है। भारत सरकार ने सेना को आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई की खुली छुट दे दी है। साथ ही भारत सरकार हर मंच पर इसके लिए जिम्मेदार पाकिस्तान को बेनकाब करने में जुटा है। भारत के सख्त रूख को देखते हुए पाकिस्तान को डर सता रहा है कि कहीं भारत उसपर हमला ना कर दे। इसी कड़ी में पाकिस्तान ने सरहद पर चौकसी बढ़ा दी है और सीमा पर पाकिस्तान की ओर हलचल तेज कर दी है।



सेना और आईएसआई ही नहीं पाकिस्तान में सरकारी स्तर पर भी हलचल तेज है। भारत की ओर से हमले या फिर सर्जिकल स्ट्राई जैसी कार्रवाई की आशंका और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में आतंकवाद के मुद्दे पर एकबार फिर से खुद को बेपर्दा होते देख और बढ़ते दवाब की बीच आज पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान मीडिया के सामने आए अपनी सफाई दी। इसके तुरंत बाद इमरान खान ने पाक नेशनल सेक्यूरिटी की मीटिंग बुलाई। बताया जा रहा है कि इस बैठक में इमरान खान के साथ उनके मंत्रीमंडल के तमाम बड़े मंत्री, सेना और आईएसआई के अधिकारी शामिल हो रहे हैं।



इससे पहले पुलवामा हमले पर मीडिया को संबोधित करते हुए इमरान खान ने कहा कि भारत ने बिना किसी सबूत के इस्लामाबाद पर आरोप लगाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान की सरकार पुलवामा हमले को लेकर बिना किसी सबूत के पाकिस्तान के ऊपर इल्जाम लगा रही है, हमने पहले इसलिए जवाब नहीं दिया क्योंकि सऊदी प्रिंस के दौरे को लेकर हमारा ध्यान था। जब क्राउन प्रिंस वापस गए हैं इसलिए अब मैं जवाब दे रहा हूं। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर भारत पाकिस्तान पर सैन्य कार्रवाई करेगा तो वह भी हमला करेगा। इमरान ने कहा कि कश्मीर में इस तरह की घटना क्यों हो रही है। इसपर सोचने की जरूरत है। उन्होंने कहा, 'हम यह हमला क्यों कराएंगे। हमें इससे फायदा क्या होगा। पाकिस्तान आतंकवाद का सबसे बड़ा भुक्तभोगी है। यह नया पाकिस्तान, नई माइंडसेट और नई सोच है। हम भी आतंक का खात्मा चाहते है।' उन्होंने कहा कि अगर हिंदुस्तान कोई जांच कराना चाहता है तो हम जांच करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि हम आतंकवाद पर बात करने को तैयार हैं, हम इसे खत्म करना चाहते हैं। पाकिस्तान को आतंकवाद से काफी नुकसान हुआ है।