भारतीय हमले से निपटने की तैयारी में जुटा पाकिस्तान, अस्पतालों को अलर्ट पर रहने के निर्देश


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 फरवरी): पुलवामा हमले के बाद भारत के सख्त रूख के देखते हुए पाकिस्तान के भारतीय हमले का खौफ सता रह है। आर्थिक रुप से दिवालिया हो चुका पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से जहां भारत के संभावित हमले को खुद को बचाने का गुहार लगा रहा है। वहीं पाकिस्तान ने इसके लिए एहतियाती कदम भी उठाने शुरू कर दिए है। पाकिस्तान के डर है अगर भारत ने उसपर हमला कर दिया तो वो जहां दिवालिया हो जाएगा वहीं भारी तादाद में उसके सैनिक मारे जाएंगे और घायल होंगे। इससे निपटने के लिए पाकिस्तान ने तैयारियां भी शुरू कर दी है।

भारत के हमले की स्थिति में अपने घायल सैनिक और लोगों के इलाज के लिए पाकिस्तान ने सैनिक अस्पतालों के साथ-साथ निजी अस्पतालों को समुचित व्यवस्था करने और अलर्ट पर रहने का आदेश दिया है। 'पूर्वी फ्रंट पर इमर्जेंसी वॉर की स्थिति में क्वेटा लॉजिस्टिक्स एरिया में सिंध और पंजाब के सिविल या मिलिटरी अस्पतालों से जख्मी जवान लाए जा सकते हैं।


Image Credit: Google


प्राथमिक उपचार के बाद इन जवानों को मिलिटरी और सिविल पब्लिक सेक्टर से बेड की उपलब्धता होने तक बलूचिस्तान के सिविल अस्पताल शिफ्ट किए जाने की तैयारी है।' 'लॉजिस्टिक्स एरिया में विस्तृत मेडिकल सपॉर्ट प्लान बनाया गया है जिसमें राज्य के सभी मिलिटरी और सिविल अस्पताल शामिल हैं। मिलिट्री अस्पताल में आकस्मिक स्थिति के लिए बेड की संख्या में इजाफे के साथ ही सिविल अस्पतालों को घायल जवानों के लिए 25 फीसदी बेड रिजर्व रखने को कहा गया है।'  निजी अस्पतालों को भी 25 प्रतिशत बेड आरक्षित रखने के साथ-साथ जरूरी सुविधाओं को चाक-चौबंद रखने के निर्देश दिए गए हैं।


Image Credit: Google


इतना ही नहीं पाकिस्तान ने भारत से सटे सरहदी इलाकों में रहने वाले अपने लोगों के लिए एडवाइजरी भी जारी किया है। पाकिस्तानी सेना ने पीओके में एलओसी के पास रहने वाले लोगों को खास जगहों पर समूह में एकत्र ना होने और बंकर बनाकर उसमें रहने के लिए कहा है। इसके साथ ही नागरिकों से रात में बेवजह लाइट जलाने और बिना कारण एलओसी के नजदिक के रास्तों पर न जाने को कहा है। इसके अलावा लोगों से कहा गया है कि वह अपने मवेशियों को चराने के लिए एलओसी के पास न ले जाएं।

Image Credit: Google

पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ हमले के बाद भारत पाकिस्तान को चारों तरफ से घरने में जुटा है। भारत अंतर्राष्ट्रीय और आर्थिक स्तर पर पाकिस्तान और उसके आतंकियों की कमर तोड़ने का कवायद में जुटा है। भारत के इस कार्रवाई को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी दूसरे देशों से भरपूर मदद मिल रहा है और दुनिया भर के देश पाकिस्तान के इस कायराना हरकतों की निंदा कर रहा है। साथ ही सभी देश भारत को दोषियों को सजा दिलाने में मदद की बात भी कह रहा है।