Pulwama Attack: 'ना-पाक' पाकिस्तान का बेशर्म बयान और शाह महमूद कुरैशी के घड़ियाली आंसू


न्यूज 24 ब्यूरो, इस्लामाबाद(16 फरवरी): एक कहावत है नकटे की नाक नहीं कटी मुंह बन गया यही हाल पाकिस्तान का है। पुलवामा हमले के बाद जहां दुनिया 50 से ज्यादा देशों ने आतंकवादियों को पालने पर पाकिस्तान की निंदा की है वहीं पाकिस्तान के विदेशमंत्री शाह महमूद कुरैशी ने चालीस जवानों की शहादत देने वाले भारत को गहरी सांस लेकर शांति से सोच विचारने का मश्बिरा दिया है। शाह महमूद कुरैशी शुक्रवार को म्यूनिख में थे। उन्होंने सिक्योरिटी कॉन्फ्रेंस के इतर मीडिया से बात की और पहले घड़ियाली आंसू बहाये फिर भारत को मश्विरा दे डाला। 



शाह महमूद कुरैशी ने उस वीडियो पर भी पर्दा डालने की कोशिश जो उसके पियादे आतंकी गिरोह जैश-ए-मुहम्मद ने पुलवामा हमले के तुरंत बाद जारी किया और हमले की जिम्मेदारी भी ली थी। यह वही शाह महमूद कुरैशी हैं जिनकी कॉल भारतीय खुफिया एजेंसियों ने इंटरसेप्ट की थी। शाह महमूद कुरैशी पीओके में मौजूद आतंकियों से उनकी खैर सल्ला ले रहे थे। भारतीय एजेंसियों के कान तो उसी वक्त खड़े हो गये थे लेकिन इतना अंदेशा नहीं था कि पाकिस्तान के पाले हुए आतंकी इतनी जल्दी कोई कदम उठा सकते हैं। 



बहरहाल, शाह महमूद कुरैशी ने बेशर्मी का लबादा ओढ़कर यह भी कह डाला कि भारत में कुछ दिन बाद चुनाव हैं और मोदी सरकार लोगों का ध्यान घरेलू समस्याओं से हटाने के लिए पुलवामा हमले में पाकिस्तान को घसीट रही है। आतंकियों को पालने के मुद्दे पर दुनियाभर के सामने बार-बार बेपर्दा होने वाले पाकिस्तान के शाह महमूद कुरैशी ने हिंसा उनकी स्टेट पॉलिसी का हिस्सा नहीं है। हालांकि शाह महमूद कुरैशी की मंशा उनके शब्दों से खुद ही जाहिर हो गयी। उनके मुंह से निकल गया कि जब अभी हम पश्चिमी मोर्चे अफगानिस्तान के साथ निपट रहे हैं। हम एक साथ पश्चिमी और पूर्वी दोनों मोर्चों परखुद को व्यस्त नहीं रख सकते। कुरैशी ने कहा है कि भारत ने पुलवामा हमले की जांच से पहले ही पाकिस्तान को आरोपी बना दिया है। वो हमेशा ऐसा ही करता है, अगर भारत के पास कोई सुबूत है तो पेश करें हम कार्रवाई करेंगे।