चुनाव में धोखाधड़ी के खिलाफ POK में हंगामा, सड़कों पर उतरे लोग

नई दिल्ली (27 जुलाई): पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर जल रहा है। लोग वहां पाकिस्तान हाय हाय के नारे लगा रहे हैं। चुनाव के नाम पर आम लोगों के साथ जो भद्दा मजाक किया गया। उसने लोगों को गुस्से से भर दिया है। नवाज सरकार के नापाक चेहरे के खिलाफ लोग गुस्से में सड़कों पर उतर आए हैं।

- पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) में बुधवार को लोग सड़कों पर उतर आए और सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया - लोगों का कहना है कि 21 जुलाई को पाक अधिकृत कश्मीर में हुए चुनावों में गड़बड़ी की गई है - लोगों का आरोप है कि चुनावों में धांधली करके नवाज शरीफ की पार्टी PML-N ने PoK में बड़ी जीत हासिल की है। - यह विरोध प्रदर्शन मुजफ्फराबाद, कोटली, चिनारी और मीरपुर तक किया गया - इस विरोध प्रदर्शन की तस्वीरों को वीडियो में साफ देखा जा सकता है लोग काफी गुस्से में हैं और उन्होंने कई स्थानों पर नारेबाजी और आगजनी की - प्रदर्शनकारियों ने वहां 'गो नवाज गो' के नारे लगाए - PoK के नागरिकों का आरोप है कि नवाज शरीफ और जरदारी की पार्टी ने पिछले कुछ दिनों में वहां 14 लोगों का कत्ल कर दिया है - चुनाव के दौरान PoK में पाक सेना ने पिछले 15-20 दिनों में कई लोगों को जबरन पकड़ा था, जिसके Video न्यूज24 ने 21 तारिख को दिखाए थे - जिसके बाद सरकारी अधिकारियों ने यहां से किसी भी तरह की मीडिया रिपोर्टिंग पर पाबंदी लगा दी - 21 जुलाई को मीरपुर में 3 शव और 25 तारिख को मुजफ्फराबाद से 2 शव मिले जो गोलियों से छलनी थे जो गोलियां मिली है वो पाकिस्तानी आर्मी की है - लोगों का आरोप है के चुनावों में धांधली की गई और जिन लोगों ने आवाज उठाई उनको मार दिया गया - प्रदर्शनकारियों का कहना है कि लोगों को उनके वोट नहीं डालने दिए गए और चुनाव के दौरान जमकर धांधलेबाजी की गई - स्थानीय लोगों के साथ-साथ PoK के कई राजनीति दलों ने इस चुनाव की जांच कराने की मांग भी की - बता दें कि पाक पीएम नवाज शरीफ की पार्टी ने पाक अधिकृत कश्मीर में एक बड़ी चुनावी जीत हासिल की है - नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन ने पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) में 42 में से 32 सीटें जीती है। - शुक्रवार को चुनाव के बाद पीओके में एक रैली के दौरान नवाज ने कहा, ‘हमें बस उस दिन का इंतजार है, जब कश्मीर पाकिस्तान बन जाएगा’

'चुनाव में वोट देने से रोका गया'- प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि उन्हें चुनाव में वोट देने नहीं दिया गया. स्थानीय लोगों ने आईएसआई और दूसरी एजेंसियों पर चुनाव में धांधली करने का आरोप लगाया है. प्रदर्शन‍कारियों का आरोप है कि पीओके चुनाव को हमेशा से सत्ताधारी दल के हिसाब से फिक्स किया जाता रहा है.

'मतदाताओं में बांटे जाते हैं पैसे'- पीओके के पूर्व प्रधानमंत्री और मुस्लिम कॉन्फ्रेंस के नेता बैरिस्टर सुल्तान मोहम्मद चौधरी ने कहा, 'चुनाव में भारी हेराफेरी की गई. मतदाताओं को खरीदने के लिए जमकर पैसे बांटे गए. मीरपुर इलाके में मतदाताओं को पैसे देने के मामले सामने आए हैं.'

'हमें हमेशा मूर्ख बनाया जाता है'- एक स्थानीय नागरिक ने बताया, '2011 में पाकिस्तान पीपल्स पार्टी ने पीओके में सरकार बनाई थी, क्योंकि तब पाकिस्तान की सत्ता उसके पास थी. यह मजाक है कि लोगों को वोट देने का अधिकार है. यहां केवल चेहरे बदलते हैं. हमें हमेशा मूर्ख बनाया जाता है.'

'मीडिया पब्लिकेशन और प्रसारण पर लगा बैन'- चुनावी प्रक्रिया और नतीजों के विरोध में मुजफ्फराबाद,कोटली,चिनारी और मीरपुर में लोग सड़कों पर उतर आए। प्रदर्शनकारियों ने ट्रैफिक को ब्लॉक कर दिया। उनकी पुलिस से भी झड़प हुई है। पीओके असेंबली हॉल और अन्य सरकारी इमारतों के पास भी विरोध प्रदर्शन हुए। लोगों का कहना है कि वास्तविक वोटर्स को वोटिंग से दूर रखा गया। प्रदर्शनकारियों ने गो नवाज गो के नारे लगाए। विरोध प्रदर्शन को देखते हुए पाकिस्तानी प्रशासन ने मीडिया को इसकी रिपोर्टिंग करने पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी। प्रशासन ने मीडिया पब्लिकेशन और प्रसारण को पूरी तरह से बैन कर दिया है। मुस्लिम कांफ्रेंस के एक समर्थक की पीएमएल(एन)के सदस्यों ने मुजफ्फराबाद में हत्या कर दी थी। इसके बाद लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में हुए चुनाव को लोग फर्जी बता रहे हैं।

'विरोध में जिसने भी आवाज उठाई उसे मार दिया गया'- लोगों का आरोप है कि शरीफ की पार्टी ने आईएसआई के साथ मिलकर चुनाव में धांधली की। जिन लोगों ने चुनाव में धांधली के खिलाफ आवाज उठाई उन्हें मार दिया गया। आरोप है कि नवाज शरीफ और जरदारी की पार्टी से जुड़े लोगों ने पिछले कुछ दिनों में यहां 14 लोगों का कत्ल कर दिया। चुनाव के दौरान पाक सेना ने पिछले 15-20 दिन में कई लोगों को जबरन पकड़ा। 21 जुलाई को मीरपुर में 3 शव और 25 तारीख को मुजफ्फराबाद से 2 शव मिले जो गोलियों से छलनी थे, जो गोलियां लगी थी वे पाकिस्तान की सेना की थी। पीओक में चुनाव के बाद नवाज शरीफ ने पब्लिक रैली में कहा था हमें बस उस दिन का इंतजार है जब कश्मीर पाकिस्तान बन जाएगा। हमें शहीदों को याद रखना है।

'नवाज शरीफ की पार्टी ने हासिल किया था दो तिहाई बहुमत'- प्रत्यक्ष निर्वाचन वाली 42 में से 32 सीटें जीतकर पीएमएलएन ने नई सरकार बनाने के लिए दो तिहाई बहुमत प्राप्त कर लिया था। चुनाव में 26 राजनीतिक दलों के 423 उम्मीदवारों ने हिस्सा लिया था। पिछली सरकार बनाने वाली पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के हिस्से में सिर्फ दो सीटें ही आई। क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान की पार्टी तहरीक ए इंसाफ को भी दो सीटें ही मिली। मुस्लिम कांफ्रेंस को तीन सीटें मिली है।

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=IKj4-h4wmaY[/embed]