बांग्लादेश में यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर की हत्या, इस्लामी आतंकियों पर शक

 

ढाका (23 अप्रैल) बांग्लादेश में राजशाही यूनिवर्सिटी के एक प्रोफेसर की अज्ञात हमलावरों ने धारदार हथियारों से वार कर हत्या कर दी गई। उनकी पीठ के पीछे से हमला किया गया। उनकी गर्दन पर तीन बार छुरे से वार किया गया। बता दें कि ये राजशाही यूनिवर्सिटी के चौथे प्रोफेसर हैं जिनकी हत्या की गई है। इसके अलावा पिछले कुछ वर्षों में कई ब्लॉगर्स और ऑनलाइन एक्टिविस्ट्स की हत्या इसी तरीके से की गई है।

पुलिस के मुताबिक राजशाही शहर में राजशाही यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एएफएम रेजाउल करीम सिददीकी (58) की उनके आवास से करीब 50 मीटर दूर हत्या कर दी गई।

एजेंसियों की रिपोर्ट में पुलिस अधिकारी सादात हुसैन के हवाले से बताया गया है कि सुबह करीब साढे़ सात बजे अज्ञात हमलावरों ने अंग्रेजी के प्रोफेसर पर धारदार हथियारों से लगातार वार किया और वे उन्हें सालबागान इलाके में बटटाला क्रॉसिंग पर मरने के लिए छोड़ गए।

हत्या के कारण का तत्काल पता नहीं चल पाया है।

बांग्लादेश में पिछले छह महीने से विशेषकर अल्पसंख्यकों, धर्मनिरपेक्ष ब्लॉगरों और विदेशियों पर सुनियोजित हमले हो रहे हैं। चार प्रख्यात धर्मनिरपेक्ष ब्लॉगरों की पिछले वर्ष हत्या की गई थी।

राजशाही यूनिवर्सिटी के एक अन्य प्रोफेसर एकेएम शैफिउल इस्लाम की दो वर्ष पहले इसी प्रकार हत्या कर दी गई थी। हालांकि शुरूआत में इस्लामी कट्टरपंथियों ने उनकी हत्या करने का दावा किया था, लेकिन बाद में पुलिस ने इस संभावना से इनकार कर दिया था। पुलिस ने कहा था कि उनकी हत्या निजी दुश्मनी के चलते हुई।

बहरहाल, कुछ वर्ष पहले राजशाही यूनिवर्सिटी के दो अन्य प्रोफेसरों की भी हत्या कर दी गई थी।