माल्या की शराब फैक्ट्री पर 'ताला' लगने से सड़क पर आए हजारों परिवार

पटना (8 मई): बिहार में शराब बंदी के बाद यहां के हाथीदह में विजय माल्या की शराब फैक्ट्री को बंद कर दिया गया है। इसके पीछे कंपनी के मैनेजमेंट का तर्क है कि शराब का प्रोडक्शन राज्य सरकार की पॉलिसीज के खिलाफ है।

माल्या की शराब फैक्ट्री के बंद हो जाने से इसमें काम करने वाले 625 लोगों के परिवार के हजारों लोग रोजी-रोटी के लिए मोहताज हो गए हैं। इम्प्लॉई यूनियन और मैनेजमेंट के बीच मुआवजे को लेकर तनातनी है। लगातार तीन दिन तक के बातचीत के बाद भी कोई रास्ता नहीं निकलता दिख रहा है।

इसमें काम करने वाले कर्मचारी बकाया सर्विस पीरियड की सैलरी का 30 फीसदी बतौर मुआवजा चाहते हैं। इधर, मैनेजमेंट हर साल के 13 दिन की मजदूरी को जोड़कर मुआवजा देना चाहता है। बता दें कि माल्या के पिता विट्ठल माल्या ने 1973 में यह यूनिट शुरू की थी।