नाबालिग से रेप करने पर मिलेगी मौत की सजा, POCSO ACT में संशोधन की प्रक्रिया शुरू

नई दिल्ली (20 अप्रैल): कठुआ में 8 साल की मासूम से गैंगरेप और उन्नाव रेप के बाद देशभर में पैदा हुए आक्रोश के बीच केंद्र सरकार ने पोक्सो एक्ट में संसोधन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। 12 साल तक के बच्चों से रेप करने के मामलों में सरकार अधिकतम मौत की सजा का प्रावधान करने जा रही है। केंद्र ने शुक्रवार को इस बाबत सुप्रीम कोर्ट में एक रिपोर्ट सौंपी है। मामले की अगली सुनवाई 27 अप्रैल को होगी।

Centre, in its letter, submitted to Supreme Court that it has started process to amend POCSO Act to ensure maximum punishment of death penalty in child rape cases between the age group of 0-12 age. Centre submitted its report while responding to a PIL. Further hearing on April 27 pic.twitter.com/UkNIAmETfI

— ANI (@ANI) April 20, 2018

केंद्र सरकार ने कहा कि उन्होंने POCSO ACT में संशोधन की प्रक्रिया को शुरू कर दिया है, ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि 0-12 साल तक के बच्चों के साथ घिनौना काम करने वालों को सजा-ए-मौत (फांसी) दी जा सके। यदि ऐसा प्रवधान बन जाता है तो 12 साल तक की बच्ची के साथ रेप करने वाले दोषियों को फांसी की सजा दी जा सकेगी। इस मामले की अगली सुनवाई 27 अप्रैल 2018 को होगी।

आपको बता दें कि बता दें कि छोटे बच्चों के साथ बढ़ते दुष्कर्म के मामलों के बाद देशभर से पाक्सो एक्ट में संशोधन की मांग उठने लगी है। यहां तक की केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने भी पोक्सो एक्ट में संशोधन करने की आवाज उठाई है। कठुआ में आठ साल की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले के बाद लोग रोष में हैं। वहीं, सूरत में 11 साल की बच्ची और एटा में 9 साल की बच्ची से दुष्कर्म के मामलों ने इस मांग को और बल दिया है।