कैदी ने जेल से दिया इम्तेहान, फर्स्ट डिवीजन हुआ पास

नई दिल्ली (16 मई): एक अपराध लिए भले ही उनके माथे पर कलंक का टीका लग गया हो मगर कानपुर के जेल में बंद तीन कैदियों ने  यूपी बोर्ड की परीक्षाओँ में सफलता हासिल कर एक उपलब्धि अपने नाम दर्ज करा ली है। जिला कारागार में  सजा काट रहे इन कैदियों के व्यवहार को देखते हुए जिला प्रशासन ने उन्हें पढ़ने का मौका दिया। उन्होंने मेहनत की और सफलता भी हासिल कर ली। दफा  498 और 304 की सजा काट रहे कानपुर गोविंदनगर के कृष्ण कुमार ने इंटर की परीक्षा में प्रथम श्रेणी से पास किया।

वहीं एक अन्य कैदी  देवमणि पाण्डेय ने सैकेंड डिवीजन हासिल की है। इसके अलावा गोविंद सिंह जो 302 के दोष सिद्ध अपराधी हैं। वो भी जेल से बाहर आकर सामान्य जीवन जीना चाहता है। उसने भी इम्तहान दिया और अच्छे नम्बरों से पास हो गया। कानपुर जेल के अधीक्षक विजय विक्रम सिंह का कहना है कि नई सोच के साथ जेल में कैदियो को पढ़ने का मौका दिया जा रहा है ताकि जो कैदी अपने जीवन की गलती को थोड़ा कम करने की सोच रहा है उसकी मदद की जा सके। इसी लिहाज से कैदियो को पढ़ने के लिए उत्साहित किया जाता है जिससे जेल से बाहर आने पर ये समाज में जगह बना सके।