आतंकियों पर कार्रवाई को लेकर पाकिस्तान चौतरफा दबाव में

नई दिल्ली (15 अप्रैल): आतंक पर  ढुलमुल नीति और चीन के दौहरे रवैये पर जहां भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने यूनाईटेड नेशंस को खरी-खरी सुनायी और मसूद अज़हर के खिलाफ कार्रवाई पर चीन के परोक्ष वीटो में दिये कारण जगजाहिर करने को कहा है वहीं अमेरिका ने पाकिस्तान से कहा है कि वो लश्कर-ए-तैयबा और हक्कानी नेटवर्क समेत सभी आतंकी गुटों के खिलाफ फिर से कार्रवाई का दबाव बनाया है।

अमेरिकी प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा है कि पाकिस्तान सरकार ने बिना किसी भेदभाव के कार्रवाई का भरोसा भी दिया है, लेकिन यह भरोसा तभी सही माना जायेगा जब हकीकत में पाकिस्तान कार्रवाई भी करे।

जब से यह बात जग जाहिर हुई है कि अफगानिस्तान में सीआईए के बेस कैंप पर आईएसआईएस ने 2009 में हमला करवाया था, तभी से अमेरिका के रुख में पाकिस्तान के प्रति तल्खी और भी बढ़ गयी है। वहीं पाकिस्तान पर भी आतंकियों पर कार्रवाई को लेकर खासे दबाव में है।