यूनिवर्सिटीज़ के भीतर 'असहिष्णुता' की कोई जगह नहीं: राष्ट्रपति

नई दिल्ली (27 अगस्त): राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने नालंदा यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में मौजूद थे। जहां अपने भाषण में उन्होंने अभिव्यक्ति की आजादी पर एक बार फिर से बल दिया।

राष्ट्रपति ने कहा, "विश्वविद्यालय मुक्त भाषण और अभिव्यक्ति के केंद्र होने चाहिए।"

उन्होंने कहा, "संस्थानों के भीतर में असहिष्णुता, पूर्वाग्रह और नफरत की भावना की कोई जगह नहीं होनी चाहिए।"