मीरा कुमार ने सांसदों-विधायकों से मांगा समर्थन, कहा- अपने विवेक से दें वोट


नई दिल्ली(25 जून): विपक्षी दलों की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार मीरा कुमार ने सांसदों, विधायकों को एक भावुक लेटर लिखकर उन्हें अपने विवेक से वोट देने को कहा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति का पद संकीर्ण राजनीतिक हितों के लिए नहीं है।


- 17 विपक्षी दलों ने संयुक्त रूप से मीरा कुमार को उम्मीदवार बनाया है। एनसीपी के शरद पवार ने मीरा कुमार का नाम प्रस्तावित किया था। मीरा 27 जून को नामांकन भरेंगी। इस बीच उन्होंने सांसदों और विधायकों को लिखे लेटर में कहा, 'संविधान ने राष्ट्रपति पद की कानून बनाने की अंतिम कसौटी के रूप में व्याख्या की है। इसलिए इस पद को राजनीति के तंग दायरे से बाहर रखना बहुत जरूरी है।'


- मीरा कुमार दलित नेता एवं पूर्व उपप्रधानमंत्री जगजीवन राम की बेटी हैं। इसके अलावा 15वीं लोकसभा में वह स्पीकर भी रह चुकी हैं। वह 8वीं, 11वीं, 12वीं, 14वीं और 15वीं लोकसभा में लोकसभा सदस्य भी रही हैं। मनमोहन सिंह की सरकार में मीरा कुमार 2004 से 2009 तक सामाजिक क़ानून एवं सशक्तीकरण मंत्रालय भी संभाल चुकी हैं। मीरा कुमार को देश की पहली महिला स्पीकर होने का गौरव हासिल है।