1 लाख के मुआवजे के लिए काट दी बेटी की चोटी

नई दिल्ली (5 अगस्त): इन दिनों महिलाओं की चोटी काटने की खबर देश के अलग-अलग राज्यों से आ रही हैं। हलांकि यह अंधविश्वास के सिवा कुछ नहीं है, बल्कि कुछ लोग मुआवजा लेने के चक्कर में भी इस हरकत को अंजाम देने में लगे हैं। ताजा मामला यूपी के कुंडा का हैं, जहां पर रिश्तेदार की बातों में आकर घरवालों ने ही अपनी लाडली की चोटी काट दी।

पुलिस ने छानबीन की तो मामला मुआवजे की लालच का निकला। कुंडा थाना क्षेत्र के लरू गांव निवासी रामकिशोर पाल की बेटी पुष्पा पाल (17) दिन में करीब दो बजे स्कूल से लौटी और कुछ देर बाद घर के अंदर सो गई। वह सेंट जोसफ स्कूल में कक्षा नौ की छात्रा है। घरवालों के मुताबिक करीब चार बजे जब उसे जगाने के लिए गए तो उसके सिर का बाल कटकर जमीन पर पड़ा था और वह बेहोश थी। उसे सीएचसी लाया गया।

सूचना मिलने पर पुलिस ने जब गहराई से छानबीन शुरू की तो चौंकाने वाली बात पता चली। एसपी शगुन गौतम ने बताया कि छात्रा के कुछ रिश्तेदार पंजाब में रहते हैं। उन लोगों ने फोन कर बताया था कि वहां महिलाओं की चोटी काटने की घटनाएं ज्यादा हो रही हैं। जिन महिलाओं की चोटी कट रही है उन्हें सरकार एक लाख रुपये मुआवजा दे रही है।

एसपी के मुताबिक छात्रा अपने घर के पीछे की ओर कमरे में लेटी थी। घरवाले टीवी देख रहे थे। उसी समय चोटी काटने की घटना की जानकारी दी गई। छात्रा की तबीयत भी खराब बताई जाने लगी तो करीब से ही एक डॉक्टर को बुलाया गया। उसने छात्रा की हालत सामान्य बताई। इसके बाद छात्रा और उसके घरवालों से सवाल होने लगे तो सब उलझ गए। आखिर में मुआवजे की लालच में चोटी काटने की बात स्वीकार कर ली।